Share this Post:
Font Size   16

दैनिक जागरण ने जारी की हिंदी बेस्टसेलर किताबों की दूसरी सूची, देखें यहां...

Saturday, 04 November, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

हिंदी साहित्य जगत में ऐतिहासिक पहल करते हुए दैनिक जागरण समूह ने अभिव्यक्ति के उत्सव दैनिक जागरण संवादीमें शुक्रवार को हिंदी बेस्टसेलर की दूसरी सूची जारी कर दी है। इस सूची का लोकार्पण उत्तर प्रदेश के उप मुख्यमंत्री डॉ. दिनेश शर्मा, साहित्य अकादमी के अध्यक्ष विश्वनाथ तिवारी और दैनिक जागरण समूह के प्रधान संपादक व मुख्य कार्यकारी अधिकारी संजय गुप्त ने संयुक्त रूप से किया।

बता दें कि यह हिंदी बेस्टसेलर आंकड़े जुलाई से सितंबर के बीच के हैं जो की दैनिक जागरण और नीलसन बुक स्कैन द्वारा हर तीन महीने में जारी किए जाते हैं।


यह भी पढ़ें : हिंदी कीबेस्टसेलर किताबों की पहली सूची, देखें यहां...


दूसरे तिमाही की सूची में भी तीन श्रेणियों कथा, कथेतर और अनुवाद के तहत 10-10 पुस्तकों को शामिल किया गया है। इसमें अनुवाद में पहले स्थान पर अमीश त्रिपाठी की सीता मिथिला की योद्धा, कथेतर में पीयूष मिश्रा की कुछ इश्क़ किया, कुछ काम किया, कथा में सुरेन्द्र मोहन की  हीरा फेरी रही।

गौरतलब है कि यह पहल दैनिक जागरण की मुहिम हिंदी हैं हमके तहत की गई है। इससे पहले जो हिंदी बेस्टसेलर की सूची जारी की गई थी, वह अप्रैल से जून, 2017 के दौरान के आंकड़ो पर आधारित थी, जिसमें कथा श्रेणी में पहले स्थान पर युवा रचनाकार सत्य व्यास लिखित किताब 'दिल्ली दरबाररही थी, जबकि कथेतर श्रेणी में पहला स्थान दीप त्रिवेदी की किताब 'मैं मन हूंको मिला था। वहीं अनुवाद श्रेणी में देवदत्त पटनायक लिखित किताब 'देवलोक देवदत्त पटनायक के संगको रखा गया था।

हिंदी बेस्टसेलर की दूसरी सूची आप नीचे देख सकते हैं-


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com