Share this Post:
Font Size   16

फेसबुक पर GIF में सर्च कीजिए Fenku, देखिए क्या आता है परिणाम

Published At: Friday, 15 March, 2019 Last Modified: Friday, 15 March, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

‘पप्पू’ और ‘फेंकू’ कहने को तो ये सामान्य से दिखने वाले शब्द हैं, लेकिन पिछले कुछ समय से राजनीति में एक-दूसरे पर कटाक्ष का पर्याय बन गए हैं। पप्पू जहां विपक्षी पार्टी के लीडर के लिए इस्तेमाल किया जाता है,  वहीं फेंकू सत्ताधारी पार्टी के मुखिया के लिए। इन शब्दों की लोकप्रियता इस कदर बढ़ गई है कि ‘पप्पू’ या ‘फेंकू’ कहने मात्र से ही संबंधित नेताओं की छवि अपने आप आंखों के सामने आ जाती है।

ख़ैर, मजाक या नेताओं की आपसी खींचतान के लिए इन शब्दों के चलन का मतलब तो समझ आता है, लेकिन अब मार्क जुकरबर्ग का फेसबुक भी हमारे संबंधित नेताओं को ‘पप्पू’ या ‘फेंकू’ नाम से संबोधित कर रहा है। कम से कम फेसबुक पर मौजूद GIF देखकर तो यही प्रतीत होता है।

फेसबुक सबसे ज्यादा इस्तेमाल किया जाने वाला सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म है। देश की आबादी का एक बड़ा हिस्सा हर रोज़ न जाने कितने घंटे फेसबुक पर व्यतीय करता है, इसमें आम से ख़ास तक सभी शामिल हैं। कंपनी ने कुछ वक़्त पहले पोस्ट या कमेंट में GIF डालने की सुविधा शुरू की थी, जिसे खूब सराहा गया। अब यही सुविधा हमारे देश के दो बड़े नेताओं को ‘पप्पू’ और ‘फेंकू’ के रूप में दिखा रही है। यदि आप फेसबुक पर कुछ पोस्ट करते या किसी पोस्ट पर टिप्पणी करते समय GIF का विकल्प चुनते हैं और वहां ‘पप्पू’ या ‘फेंकू’ सर्च करते हैं, तो कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की तस्वीरें दिखाई देंगी।

दरअसल, राहुल को उनके कुछ बयानों के लिए विपक्षी ‘पप्पू’ कहकर संबोधित करते हैं और इसी तरह मोदी के लिए उनके आलोचक ‘फेंकू’ शब्द का इस्तेमाल करते हैं। हालांकि, ‘पप्पू’ सर्च करने पर राहुल के साथ ही कई अन्य एनिमेटेड तस्वीरें भी हैं, मगर ‘फेंकू’ लिखने पर एकमात्र तस्वीर नरेंद्र मोदी की ही है। जिसपर लिखा आता है ‘चलिए पुडुचेरी टू वानक्कम।’

गौर करने वाली बात यह है कि फेसबुक के इस ‘पप्पू’-‘फेंकू’ मजाक पर अब तक कोई विरोध नहीं जताया गया है। जुकरबर्ग की कंपनी का इन GIF का जुटाने का माध्यम चाहे कुछ भी हो, लेकिन इस तरह हमारे नेताओं का उपहास उड़ाने का अधिकार उसे किसने दिया, यह सवाल तो उठाया ही जाना चाहिए?



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com