Share this Post:
Font Size   16

पत्रकार को भारी पड़ गई मसूद अजहर की दलाई लामा से तुलना, इस तरह फूटा लोगों का गुस्सा

Published At: Friday, 15 March, 2019 Last Modified: Friday, 15 March, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

पाकिस्तानी टीवी पत्रकार हामिद मीर को तिब्बत के सबसे बड़े धर्मगुरु दलाई लामा की तुलना आतंकी संगठन जैश-ए-मोहम्मद के सरगना मसूद अजहर से करना भारी पड़ गया। यह खबर सामने आते ही लोगों का गुस्सा फूट गया। लोगों ने सोशल मीडिया पर हामिद मीर की जबर्दस्त क्लास लगा दी और उन्हें बुरी तरह ट्रोल किया।

‘जनसत्ता’ में छपी खबर के अनुसार, लोगों का कहना था, ‘लिखने से पहले कुछ तो सोच लिया करिए। अपने (पाक के) आतंकवाद को छोड़िए, कम से कम मेरे नाम (लामा) का तो ख्याल रख लें। हमें लगता है कि केवल बेवकूफ लोग ही इन दोनों के बीच की तुलना कर सकते हैं।‘

वहीं, कुछ यूजर्स ने मजे लेते हुए मीर को खरी-खोटी सुनाई। ऐसे लोगों ने ट्वीट्स में लिखा-दलाई लामा जहां भी जाते हैं, उनका वहां सम्मान होता है। वह नोबेल शांति पुरस्कार विजेता भी हैं, मगर जब भी पाकिस्तानी पीएम अमेरिका और ब्रिटेन सरीखे देश जाते हैं, तब उनके कपड़े तक उतरवा कर चेकिंग की जाती है।

दरअसल, संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद में अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने को लेकर अमेरिका, फ्रांस तथा ब्रिटेन ने प्रस्ताव पेश किया था, जिसमें चीन ने अड़ंगा अड़ा दिया। चीन ने अजहर का बचाव किया और कहा कि वह चाहता है कि इस मसले का हल बातचीत के जरिए निकले।

पाकिस्तानी पत्रकार ने इसी को लेकर ‘द सिडनी मॉर्निंग हेराल्ड’ की खबर साझा की थी। अखबार की उस रिपोर्ट में चीन के हवाले से दलाई लामा को आतंकवादी कहा गया था। बुधवार को मीर ने इसके साथ लिखा था, ‘यह समझना बेहद आसान है कि चीन ने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद (यूएनएससी) में मसूद अजहर पर प्रतिबंध लगाने का बचाव क्यों किया।‘ भारत चीन के दुश्मन को दशकों से शरण दिए हुए है और उसका नाम दलाई लामा है।‘

पाक पत्रकार के इसी ट्वीट पर भारी संख्या में टि्वटर यूजर्स बिफर गए। बोले कि आप जैसे समझदार पत्रकार से इस तरह की उम्मीद नहीं थी। कम से कम आपने तो थोड़ा सोच-समझ कर लिखा होता…।

कुछ यूं फूटा लोगों का गुस्सा-



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com