Share this Post:
Font Size   16

ITV मीडिया नेटवर्क के संस्थापक कार्तिकेय शर्मा ने लॉन्च किया ये नया वेंचर

Published At: Monday, 11 February, 2019 Last Modified: Monday, 11 February, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

प्रो स्पोर्टिफाई और आईटीवी मीडिया नेटवर्क के संस्थापक एवं प्रमोटर कार्तिकेय शर्मा इस साल के अंत में इंडियन एरिना पोलो लीग लॉन्च करेंगे। शर्मा ने 2015 में प्रो स्पोर्टिफाई को स्थानीय खेल को प्रोत्साहित करने की पहल के रूप में पेश किया था। इस प्रोग्राम का उद्देश्य भारत में खेल और एथलेटिक्स के स्तर को मजबूत करना है। हाल ही में ‘कैवलरी गोल्ड कप’ के अवसर पर यह घोषणा की गई। इस दौरान, सेना प्रमुख एवं आईपीए के अध्यक्ष जनरल बिपिन रावत और क्यूएमजी लेफ्टिनेंट जनरल आमरे, चीफ स्टीवर्ड और आईपीए के उपाध्यक्ष भी उपस्थित थे। संयुक्त रूप से की गई इस घोषणा के बाद जनरल बिपिन रावत ने यह दर्शाने के लिए कार्तिकेय शर्मा को औपचारिक एरीना पोलो बॉल सौंपी कि अब प्रो स्पोर्टिफाई वेंचर्स इसे आगे बढ़ाएगा।

‘इंडियन एरीना पोलो लीग’ 6 टीमों के बीच एरीना पोलो फॉर्मेट में खेली जाएगी, जो कि खेल का एक छोटा प्रारूप है। यहां आपको तेज़ और पेशेवर पोलो का रोमांचक मिश्रण देखने को मिलेगा। इस आयोजन में भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय दोनों खिलाड़ी शामिल होंगे। ‘एरीना पोलो’ पोलो का एक छोटा प्रारूप है और अपेक्षाकृत छोटे मैदान पर खेला जाता है। हालांकि, इस गेम में रंग बिरंगी पोशाक पहने खिलाड़ी जिस गेंद से खेलते हैं, उसका आकार बड़ा होता है। ‘पोलो लीग’ स्पोर्ट्स, फैशन और लाइफस्टाइल का एक आदर्श मिश्रण होगी।

कार्यक्रम में बोलते हुए भारतीय पोलो एसोसिएशन के मानद सचिव कर्नल रवि राठौर ने कहा, “हमें इंडियन एरिना पोलो लीग की घोषणा करते हुए ख़ुशी हो रही है, हम प्रो स्पोर्टिफाई वेंचर्स के साथ मिलकर काम कर रहे हैं, उन्होंने ने भारत में पेशेवर खेलों को बढ़ाने देने की दिशा में अब तक बेहतरीन काम किया है। इंडियन एरिना पोलो उनकी एक और उपलब्धि होगी। मैं कार्तिकेय शर्मा को उनके दृष्टिकोण, जुनून और प्रतिबद्धता के लिए बधाई देता हूं।”

प्रो स्पोर्टिफाई वेंचर्स के संस्थापक एवं प्रमोटर कार्तिकेय शर्मा ने इस दौरान कहा कि भारत में पोलो को राजसी गौरव का पर्यायवाची माना जाता है। दुनिया भर के पोलो संरक्षक अब ‘इंडियन पोलो लीग’ में पोलो टीम के मालिक और एक नए उभरते खेल और जीवन शैली व्यवसाय का हिस्सा बन सकेंगे।
 



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com