Share this Post:
Font Size   16

बस अब यही बाकी रह गया था न्यूज डिस्कशन के दौरान...

Published At: Thursday, 23 November, 2017 Last Modified: Wednesday, 22 November, 2017

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

फिल्म पद्मावती को लेकर विवाद थमने का नहीं ले रहा है। करणी सेना द्वारा फिल्म 'पद्मावती' के निर्देशक संजय लीला भंसाली और अभिनेत्री दीपिका पादुकोण को खुलेआम धमकी देने के बाद अब टीवी न्यूज चैनल के डिबेट शो में तलवार लहराने लगी हैं।

हाल ही में टाइम्स नाउ में पद्मावती विवाद पर डिबेट शो में बहस के लिए आमंत्रित कर्णी सेना के दो प्रतिनिध पूरी आन-बान-शान के साथ पहुंचे थे। सिर पर रंग-बिरंगा साफा और हाथ में तलवार। डिबेट के दौरान जब एंकर आनंद नरसिम्हन पद्मावती के इतिहास से जुड़ी जानकारी पर सवाल कर रहे थे कि तभी एक प्रतिनिधि ने लाइव शो के दौरान मियान से तलवार निकालकर लहरा दी।

जब एंकर ने उनसे ऐसा करने से मना किया तो उन्होंने दावा किया कि तलवार राजपूतों के मान-सम्मान को दर्शाती है जिसे भंसाली ने आहत किया है।

एंकर लगातार प्रवक्ताओं से मेवाड़ के इतिहास और मुगल शासल अलाउद्दीन खिलजी के बीच हुई लड़ाई का साल और सदी पूछते रहे, लेकिन दोनों ही प्रवक्ता उनके सवाल का जवाब तो नहीं दे सके, लेकिन एक प्रवक्ता ने ऑन एयर दीपिका के लिए आपत्तिजनक शब्दों का इस्तेमाल किया, तो दूसरे प्रवक्ता ने फिर से अपने विवादित बयान को दोहराते हुए कहा कि कोई भी उनका कितना भी रक्षक क्यों न बन जाए लेकिन दीपिका और भंसाली या तो देश छोड़कर चले जाएं अन्यथा उनका सिर कलम करने वालों को अखिल भारतीय क्षत्रीय युवा समाज उन्हें पांच करोड़ रुपए इनाम में देगा।

इस पर एंकर ने पहले प्रवक्ता का जवाब देते हुए कहा कि आपको कोई हक नहीं है कि आप किसी के लिए इस प्रकार के गंदे शब्दों का इस्तेमाल करें।

फिर सिर कलम करने वाली बात पर एंकर ने बहुत ही शालीनता से जवाब देते हुए कहा क्या आपको कोई और तरीका नहीं मिला इन पांच करोड़ रुपए को खर्च करने का। एंकर ने कहा कि आप मेरठ में रहते हैं, वहां महिलाओं के लिए स्कूलों की कमी है आप इन पांच करोड़ रुपयों को वहां लगा सकते हैं।

देखिए पूरा विडियो-

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

सबरीमाला: महिला पत्रकारों को रिपोर्टिंग की मनाही में क्या है आपका मानना...

पत्रकारों को लैंगिक भेदभाव के आधार पर नहीं देखा जाना चाहिए

मीडिया को ऐसी बातों के खिलाफ एकजुट होकर आवाज उठानी चाहिए

महिला पत्रकारों को मंदिर की परंपरा का ध्यान रखना चाहिए

Copyright © 2018 samachar4media.com