Share this Post:
Font Size   16

पत्रकारिता जर्नलिज्म कम, एक्टिविज्म ज्यादा हो गया है, बोले के.जी. सुरेश

Published At: Monday, 02 April, 2018 Last Modified: Monday, 02 April, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

पत्रकारिता न पक्ष की हो न विपक्ष की, पत्रकारिता जनपक्ष की होनी चाहिए। समाजहित के पहलुओं को जागृत करना ही पत्रकारिता का धर्म होना चाहिए। पत्रकारिता जर्नलिज्म कम, एक्टिविज्म ज्यादा हो गया है।ये बातें भारतीय जनसंचार संस्थान (IIMC) के महानिदेशक के.जी. सुरेश ने एक कार्यक्रम के दौरान अपने वक्तव्य में हैं।

वे माखनलाल चतुर्वेदी राष्ट्रीय पत्रकारिता एवं संचार विश्वविद्यालय के नोएडा परिसर में आयोजित पत्रकारिता का धर्म एवं अभिव्यक्ति की स्वतंत्रताविषय पर बोल रहे थे।

अपने संबोधन में उन्होंने कहा कि प्रायोगिकता के नाम पर जो बदलाव पत्रकारिता में हो रहा है उसे समझना आवश्यक है। फेक न्यूज आज मुख्यधारा की पत्रकारिता में हावी हो रहा है, जिस पर नियंत्रण अत्यंत आवश्यक है। जब आप व्यक्तिगत विचार को समाचार में मिला कर परोसते हैं तो यह फेक न्यूज़ के दायरे में आता है।

उन्होंने आगे कहा कि पत्रकारिता की लक्ष्मण रेखा पत्रकार को स्वयं तय करना चाहिए। सिर्फ आलोचना या नकारात्मक दृष्टि से देखना ही पत्रकारिता नहीं है। तथ्य और सत्य में अंतर को एक पत्रकार को विशेष तौर से समझना चाहिए।

इस मौके पर महात्मा गांधी अंतरराष्ट्रीय हिन्दी विश्वविद्यालय वर्धा के जनसंचार विभाग के अध्यक्ष प्रोफेसर अनिल कुमार राय ने कहा कि पत्रकारिता मिशन से शुरू होकर प्रोफेशन और आज कमीशन की तरफ बढ़ गई है। इस पर नियंत्रण करना जरूरी हो जाता है। पत्रकारिता अंधेरे के बीच एक प्रकाशपुंज के समान है, जो समाज हित को प्रकाशित करती है। पत्रकारिता हाशिये के समाज को ध्यान मे रख कर करनी चाहिए।

कार्यक्रम को आगे बढ़ाते हुए सर्वोच्च न्यायालय के अधिवक्ता शंकर झा ने कहा कि आपकी आजादी तब तक है जब तक आप दूसरे के आजादी मे बाधा नहीं उत्पन्न करते हैं। खबर लिखते समय हमें मानहानि, न्यायालय की अवमानना, निजता का हनन आदि पक्षों पर विशेष ध्यान रखना चाहिए। नोएडा परिसर के प्रभारी प्रोफेसर अरुण कुमार भगत ने विषय प्रवर्तन करते हुए कहा कि पत्रकारिता समाज की धड़कन है। सभ्यता और  संस्कृति की संवाहक होती है। इसीलिए इसे जल्दी मे लिखा गया साहित्य भी कहते हैं। एक तरफ जहां पत्रकारिता से इतिहास लेखन होता है तो दूसरी तरफ इस से सामाजिक जीवन की व्यवस्था भी सुदृढ़ होती है। मंच संचालन सहायक प्राध्यापक सूर्य प्रकाश ने किया। धन्यवाद ज्ञापन सहायक प्राध्यापक लाल बहादुर ओझा ने किया।

इस अवसर पर नोएडा परिसर की वरिष्ठ सहायक प्राध्यापक मीता उज्जैन, राकेश योगी, डॉ. रामशंकर, मधुकर सिंह, डॉ. शशि प्रकाश राय, ऋचा चांदी, अनिरुद्ध सुभेदार, कमल उपाध्याय, अंकिता शिवहरे सहित सभी  कर्मचारी व विद्यार्थी मौजूद थे।


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 



पोल

सबरीमाला: महिला पत्रकारों को रिपोर्टिंग की मनाही में क्या है आपका मानना...

पत्रकारों को लैंगिक भेदभाव के आधार पर नहीं देखा जाना चाहिए

मीडिया को ऐसी बातों के खिलाफ एकजुट होकर आवाज उठानी चाहिए

महिला पत्रकारों को मंदिर की परंपरा का ध्यान रखना चाहिए

Copyright © 2018 samachar4media.com