Share this Post:
Font Size   16

अपने पाठकों के लिए 'The Hindu' ने किया नया प्रयोग

Published At: Saturday, 30 June, 2018 Last Modified: Saturday, 30 June, 2018

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।

'द हिन्‍दू' ने हाल ही में अपने सबस्क्रिप्‍शन आधारित एप को लॉन्‍च किया है। दरअसल, कंपनी ने अपने इंटरनेट के बिलों का भुगतान करने के लिए अतिरिक्‍त धन जुटाने के तहत यह निर्णय लिया है।

'ब्रीफकेस' ' Briefcase'  नाम से शुरू किए गए इस एप पर लोगों को राष्‍ट्रीय व अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर की महत्‍वपूर्ण खबरें संक्षिप्‍त रूप में मिलेंगी। यह एप बिल्‍कुल अमेरिका की न्‍यूज वेबसाइट 'Axios' की तर्ज पर तैयार किया गया है जिसमें आपको सिर्फ न्‍यूज को प्‍वाइंट्स में बताया जाता है।

'ब्रीफकेस' की एडिटर वीना वेणुगोपाल ने संकेत दिए हैं कि आने वाले समय में इसी तरह के कुछ और सबस्क्रिप्‍शन आधारित प्रॉडक्‍ट्स और शुरू किए जाएंगे।

शुरुआत में 'ब्रीफकेस' की सेवाएं लेने के लिए तीन महीने के 99 रुपये चुकाने होंगे। इसमें लंबे समय का सबस्क्रिप्‍शन लेने पर डिस्‍काउंट भी रखा गया है। जैसे 'द हिन्‍दू' के एक महीने के ई-पेपर का सबस्क्रिप्‍शन 200 रुपये से ज्‍यादा है। हालांकि लंबे समय का प्‍लान लेने पर इसमें छूट भी दी जाती है।

बताया जाता है कि सुबह-सुबह ताजा-तरीन खबरें पढने वालों के लिए यह एप काफी सही रहेगा। इसे रोजाना अपडेट किया जाता है। उन लोगों के लिए यह एप खासकर फायदेमंद रहेगा जो जानना चाहते हैं कि आखिर दुनिया में क्‍या चल रहा है लेकिन वे अखबार पढ़ने में अपना ज्‍यासदा समय बेकार नहीं करना चाहते और न ही दिन भर ब्रेकिंग न्‍यूज देखना चाहते हैं। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक, इस एप पर प्रत्‍येक स्‍टोरी 250 से 300 शब्‍दों की होगी। इसके लिए इसमें पसंद की खबर पढ़ने के लिए विभिन्‍न सेक्‍शन जैसे- बाजार, मौसम और तेल की कीमतें आदि होंगे।

यही नहीं, जिस तरह एप को ब्रीफकेस नाम दिया गया है, इसी तरह इसके लिए गठित टीम को भी छोटा ही रखा गया है। इसके लिए एडिटोरियल में चार लोगों की टीम है। अन्‍य स्‍थानीय भाषाओं में इस एप को लाने का फिलहाल कोई इरादा नहीं है।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com