Share this Post:
Font Size   16

जानें, यूनिवर्सिटी की रिपोर्टिंग पत्रकारों पर क्यों पड़ रही भारी

Published At: Wednesday, 13 March, 2019 Last Modified: Wednesday, 13 March, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

देश भर में पत्रकारों पर आए दिन हमले हो रहे हैं। खास बात यह है कि पत्रकारों पर हमलों में शिक्षा का मंदिर माने जाने वाले विश्वविद्यालय भी पीछे नहीं हैं। ताजा मामला बनारस हिन्दू विश्वविद्यालय (बीएचयू) का है। बताया जाता है कि बीएचयू में मारपीट व पत्थरबाजी की घटना कवर करने गए एक चैनल के पत्रकार को सुरक्षा कर्मियों ने बंधक बनाकर पीटा। आरोप है कि यह चीफ प्रॉक्टर की मौजूदगी में हुआ। पत्रकार प्रह्लाद पांडेय का न सिर्फ कैमरा छीन लिया गया, बल्कि मोबाइल से फुटेज भी डिलीट करवा दी। मारपीट में पत्रकार को काफी चोट आई है।

मंगलवार को पत्रकार प्रह्लाद पांडेय ने लंका थाने में दी गई तहरीर में चीफ प्रॉक्टर प्रो. रोयाना सिंह पर कमरे में बंधक बनवाकर सुरक्षा कर्मियों से पिटवाने, गाली गलौज, मोबाइल छीनने और कैमरा तोड़ने के आरोप में रिपोर्ट दर्ज करवाई है। गौरतलब है कि कुछ समय पहले रांची विश्वविद्यालय में भी तीन पत्रकारों पर वहां के कर्मचारियों ने हमला कर दिया था।



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com