Share this Post:
Font Size   16

डियर भास्कर! आराध्या की हंसी वाली बात का सुप्रीम कोर्ट से क्या ताल्लुक है?

Published At: Wednesday, 13 March, 2019 Last Modified: Wednesday, 13 March, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।
आमतौर पर सोशल मीडिया पर खबर के लिंक या खबर लिखने के दौरान गलतियां हो जाती हैं। अखबार वालों के पास तो कोई चारा नहीं होता, सिवाय अगले दिन करेक्शन छापने के सिवाय, यूट्यूब पर भी विडियो अपलोडिंग के बाद डिलीट करने का ही ऑप्शन रह जाता है। लेकिन बेवसाइट की खबरों, ट्विटर एकाउंट या फेसबुक एकाउंट पर तो तो करेक्शन मुमकिन है। कुछ नहीं तो गलती पता चलते ही उस लिंक को हटाकर दोबारा से शेयर किया जा सकता है। पर लगता है कि दैनिक भास्कर की सोशल मीडिया टीम को 11 मार्च को ट्विटर पर गलत कैप्शन के साथ पोस्ट किए गए लिंक के बारे में शायद अभी पता नहीं चल पाया है।

दरअसल, मामले ये है कि 11 मार्च को दैनिक भास्कर के ट्विटर एकाउंट पर शाम 5 बजकर 47 मिनट पर शेयर की गई। खबर के लिंक के साथ टाइटिल पोस्ट लिखी गई थी- आराध्या ने कही जो बात उसे सुनकर कोई नहीं रोक पाया अपनी हंसी। तो लगा कि देश में मशहूर आराध्या तो एक ही है, अमिताभ बच्चन की पोती और ऐश्वर्या-अभिषेक की बेटी, तो जरूर खबर उनसे ही जुड़ी होगी। क्लिक किया गया तो खबर सुप्रीम कोर्ट की निकल रही है।उस खबर की हेडिंग दिख है, ‘सुप्रीम कोर्ट ने कहा 10 फीसदी आरक्षण के मसले को संविधान बेंच को भेजने पर विचार करेंगे’। अंदर भी वही खबर है। जाहिर है, कॉपी पेस्ट करते वक्त कुछ गडबड़ हुई होगी। गलतियां हो जाती हैं, लेकिन पता चलते ही सुधारी भी जाती हैं।

ये गलती तो वैसे भी सुधारी जाने वाली है। फिर भी 11 मार्च की ये खबर गलती के साथ भास्कर के ऑफीशियल ट्विटर एकाउंट पर अभी भी चिपकी हुई है। उम्मीद है कि भास्कर वाले इस खबर को पढ़ने के बद इस गलती को दूर करेंगे, आखिर मामला सुप्रीम कोर्ट का जो है।
 



पोल

पुलवामा में आतंकी हमले के बाद हुई मीडिया रिपोर्टिंग को लेकर क्या है आपका मानना?

कुछ मीडिया संस्थानों ने मनमानी रिपोर्टिंग कर बेवजह तनाव फैलाने का काम किया

ऐसे माहौल में मीडिया की इस तरह की प्रतिक्रिया स्वाभाविक है और यह गलत नहीं है

भारतीय मीडिया ने समझदारी का परिचय दिया और इसकी रिपोर्टिंग एकदम संतुलित थी

Copyright © 2019 samachar4media.com