Share this Post:
Font Size   16

जानिये क्‍यों बिगड़ी 'जियो' और 'Zee' के बीच की बात

Published At: Monday, 13 August, 2018 Last Modified: Monday, 13 August, 2018

सुभाष चंद्रा की कंपनी 'जी एंटरटेंमेंट एंटरप्राइजेज' (ZEE) ने मुकेश अंबानी के स्‍वामित्‍व वाली कंपनी 'रिलायंस जियो' के प्लेटफॉर्म से अपने सभी कंटेंट हटा लिए हैं। दरअसल, प्राइस एग्रीमेंट को लेकर दोनों कंपनियों के बीच समझौता नहीं होने की वजह से दो साल पुरानी यह डील रद्द कर दी गई है। इसके परिणामस्वरूप रिलायंस जिओ के यूजर्स अब ZEE का कोई भी कंटेंट नहीं देख पाएंगे।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, इन कंटेंट में 'जी' के 35 लाइव टीवी चैनल्स और दो लाख घंटे से ज्यादा के वीडियो-ऑन-डिमांड कंटेंट शामिल हैं। इस डील के रद्द होने से जी टीवी, जी सिनेमा, जी मराठी समेत 'जी' के सभी 35 लाइव टीवी चैनल का प्रसारण जियो टीवी ऐप और जियो लाइव टीवी ऐप पर बंद हो गया है। 'जी' ने इसके साथ ही नॉन-एयर शो और मूवी समेत दूसरे लाइब्रेरी कंटेंट भी हटा लिए हैं, जो मल्टी ईयर डील का हिस्सा थे। इन कंटेंट को जियो सिनेमा ऐप के जरिए जियो सब्सक्राइबर्स को ऑफर किया जाता था।

मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार, जियो के प्रवक्ता ने बताया कि कंपनी अपने प्लेटफॉर्म पर कस्टमर्स को डिजिटल सर्विस, एप्लिकेशन और एंटरटेंनमेंट के विकल्पों की पूरी रेंज देने के लिए प्रतिबद्ध है। प्रवक्ता ने कहा, 'जियो इस सेगमेंट में मौजूद सभी कंपनियों के साथ इस तरह काम कर रही है, जिससे कंज्यूमर्स, ब्रॉडकास्टर्स सहित सबको फायदा हो।' हालांकि उन्होंने जी से जुड़े मामले की पुष्टि नहीं की। वहीं, जी एंटरटेनमेंट ने इस मामले पर कोई भी टिप्पणी करने से इनकार कर दिया।

गौरतलब है कि जिओ और ZEE के बीच डिजिटल कंटेंट उपलब्ध कराने के लिए वर्ष 2016 में समझौता हुआ था। इस समझौते के तहत जिओ यूजर्स जिओ टीवी ऐप के माध्यम से ZEE के चैनल्स पर चलने वाले प्रोग्राम्स के एक हफ्ते पहले तक के एपिसोड भी देख सकते थे।

Tags headlines


पोल

‘नेटफ्लिक्स’ और ‘हॉटस्टार’ जैसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की मांग को लेकर क्या है आपका मानना?

सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाने चाहिए

इन पर अश्लील कंटेट प्रसारित करने के आरोप सही हैं

आज के दौर में ऐसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करना बहुत मुश्किल है

Copyright © 2018 samachar4media.com