Share this Post:
Font Size   16

'ZEE हिन्दुस्तान' को मिला नया एडिटर, ब्रजेश कुमार सिंह को ZEE मीडिया में बड़ी जिम्मेदारी

Published At: Thursday, 11 October, 2018 Last Modified: Tuesday, 16 October, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

'जी मीडिया समूह'  (ZEE Media Group) का हिंदी चैनल ‘जी हिन्दुस्तान’ एक बार फिर चर्चाओं में है। मिली जानकारी के मुताबिक, ‘जी हिन्दुस्तान’ के सर्वेसर्वा ब्रजेश कुमार सिंह को अब 'जी मीडिया समूह' ने नई जिम्मेदारी दी है। बताया गया है कि ब्रजेश कुमार को 'जी मीडिया' (ZMCL) में अब ग्रुप एडिटर (पॉलिटिकल अफेयर्स एंड स्पेशल प्रोजेक्ट) के पद पर नियुक्त किया गया है।उनका कार्य अब तमाम चैनलों के इंटीग्रेशन और कनवर्जेंस पर भी फोकस करना रहेगा।

ब्रजेश कुमार की रिपोर्टिंग पहले की तरह ही समूह के मैनेजिंग डायरेक्टर अशोक वेंकट रमणी को ही रहेगी। नई भूमिका में ब्रजेश के अनुभव का इस्तेमाल प्रोग्रामिंग को दुरुस्त करने के साथ ही इनपुट को मजबूत करने और राष्ट्रीय स्तर पर नेटवर्क के पॉलिटिकल कवरेज को धारदार बनाने में होगा। यही नहीं, जी मीडिया में नए एमडी की अगुआई में होने वाले कई नए प्रयोगों में भी ब्रजेश की अहम भूमिका रहेगी, जिसमें सभी चैनलों के कंटेंट को यूनिक बनाना और जो चैनल कमजोर हैं, उन्हें मजबूती देने का काम होगा।

वहीं ऐसे में 'जी हिन्दुस्तान' के नए एडिटर के तौर पर कमान 'जी हिन्दुस्तान' के वर्तमान डिप्टी सीईओ पुरुषोत्म वैष्णव को सौंप दी गई है। 

गौरतलब है कि ब्रजेश कुमार सिंह जून, 2017 में 'जी समूह'  के साथ जुड़े थे। वे यहां गुजराती न्यूज चैनल ‘एबीपी अस्मिता’ (ABP Asmita) के एग्जिक्यूटिव एडिटर के पद से इस्तीफा देकर पहुंचे थे। बता दें कि जी समूह के साथ ये अपनी तीसरी पारी खेल रहे हैं।

ब्रॉडकास्ट इंडस्ट्री में 22 साल का अनुभव रखने वाले ब्रजेश कुमार एबीपी न्यूज से पहले ‘जी न्यूज’, ‘आजतक’ और ‘अमर उजाला’ में काम कर चुके हैं। देश के प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान 'आईआईएमसी' के 1996 बैच के पूर्व छात्र रहे सिंह ने पत्रकारिता में अपने करियर की शुरुआत सितंबर, 1996 में हिंदी दैनिक ‘अमर उजाला’ से की, जहां एक साल से भी ज्यादा समय तक रिपोर्टर/सब एडिटर के रूप में अपना योगदान दिया। दिसंबर, 1997 में उन्होंने 'अमर उजाला' को अलविदा कह दिया और कुछ दिन बाद यानी जनवरी, 1998 में वे ‘जी न्यूज’ आ गए। 1999 में जब ‘जी न्यूज’ का अहमदाबाद ब्यूरो स्थापित हुआ, तब उन्होंने यहां अहम भूमिका निभाई, लेकिन कुछ ही समय बाद जी का रीजनल न्यूज चैनल ‘जी गुजराती’ शुरू हुआ, और वे इसके साथ जुड़ गए और तीन साल से भी अधिक समय तक यहां काम किया। इस दौरान उन्होंने जनवरी, 2001 में आया कच्छ भूकंप, 1999 के लोक सभा चुनाव और गुजरात सूखे समेत कई अन्य महत्वपूर्ण घटनाओं को कवर किया। 

सिंह इसके बाद, जून 2001 में हिंदी न्यूज चैनल ‘आजतक’ के साथ बतौर कॉरेस्पोंडेंट जुड़ गए, लेकिन वे यहां सिर्फ 7 महीने ही रहे और दिसंबर, 2001 में वे फिर ‘जी न्यूज’ लौट आए। इस बार इन्हें चैनल में प्रिंसिपल कॉरेस्पोंडेंट की जिम्मेदारी दी गई और लगभग एक साल तक काम करते रहें और इसके बाद वे ‘एबीपी’ चले गए थे। उन्होंने अहमदाबाद के डॉ. बाबासाहेब अम्बेडकर ओपन यूनिवर्सिटी से पीएचडी (मास कम्युनिकेशन) की है।

वहीं पुरुषोत्म वैष्णव को इस साल ही ‘जी समूह’ के डिप्टी सीईओ की कमान सौंपी गई थी। इसके पहले वैष्णव जी के रीजनल चैनलों जैसे- ‘जी24 तास’ (Zee 24 Taas), ‘जी पंजाब’  (Zee Punjab) और ‘जी मध्यप्रदेश’ (Zee Madhya Pradesh) के डेप्युटी सीईओ के पद पर कार्यरत थे।

वैसे वैष्‍णव ने ‘जी मरुधरा राजस्थान’ (Zee Marudhara Rajasthan) और ‘जी पुरवैया’ (Zee Purvaiya) 'जी बिहार-झारखंड' के चैनल हेड के रूप में भी अपनी सेवाएं दी हैं।

 

 



पोल

मीडिया में सर्टिफिकेशन अथॉरिटी को लेकर क्या है आपका मानना?

इस कदम के बाद गुणवत्ता में निश्चित रूप से सुधार आएगा

मीडिया अलग तरह का प्रोफेशन है, इसकी जरूरत नहीं है

Copyright © 2018 samachar4media.com