Share this Post:
Font Size   16

IRS 2017: हिंदी पाठकों में ये बढ़ोतरी दिखाती है ताकत...

Friday, 19 January, 2018

समाचार4मी‍डिया ब्यूरो ।।


चार साल के लंबे इंतजार के बाद 18 जनवरी को आखिर इंडियन रीडरशिप सर्व’ (IRS 2017) के आंकड़े जारी हो गए हैं। नवीन सर्वे से पता चलता है कि पिछले चार साल में प्रिंट मीडिया की कुल रीडरशिप में नौ प्रतिशत का इजाफा हुआ है। आंकड़ों के दौरान पता ये चला है कि अखबारों के कुल पाठकों की संख्या 40 फीसदी बढ़ गई है और इस बार 11 करोड़ नए पाठक जोड़े गए हैं।  


सर्वे के अनुसार, अंग्रेजी अखबारों की रीडरशिप  इन चार वर्षों में 10 प्रतिशत बढ़ी है और 2.8 करोड़ तक पहुंच गई है जबकि पिछली बार के सर्वे में यह 2.5 करोड़ थी।


यदि हिन्‍दी रीडरशिप की बात करें तो आईआरएस 2017 के अनुसार यह 17.6 करोड़ हो गई है और आईआरएस 2014 के मुकाबले इसमें 45 प्रतिशत का इजाफा हुआ है। इस बार सर्वे के लिए सैंपल साइज भी काफी बड़ा रखा गया था। इस बार 3.2 लाख हाउसहोल्‍ड्स को सैंपल में रखा गया था जो आईआरएस 2014 के सैंपल साइज से 34 प्रतिशत ज्‍यादा था।


ताजा आंकड़ों के अनुसार जिन अखबारों की सबसे ज्‍यादा रीडरशिप रही है, उनमें हिन्‍दी अखबारों में दैनिक जागरणऔर अंग्रेजी में टाइम्‍स ऑफ इंडियाशामिल हैं और इनकी रीडरशिप क्रमश: 70377,000 और  13047,000 रही है।


रिपोर्ट के मुताबिकमैगजीन के सर्वे में लगभग 3.8 करोड़ नए पाठक जोड़े गए हैं। हालांकि यहां बता दें कि सर्वे के लिए इस बार नई टेक्नोलॉजी का इस्तेमाल किया गया था।


पिछले सर्वे के मुकाबले इस बार हुए ये बदलाव-

 

शहरी क्षेत्र

 

IRS 2013-14: 557

IRS 2017: 493

बदलाव: 12%

 

ग्रामीण क्षेत्र

 

IRS 2013-14: 2346

IRS 2017: 1771

बदलाव: 24%

 

मेट्रो सिटीज 50 Lakhs+

IRS 2013-14: 919

IRS 2017: 560

बदलाव: 39%


पूर्णतय: जांच करने के बाद स्वीकृत किए गए अंतिम सैम्पल:


टार्गेट किए गए सैंपल साइज: 332,421

लिए गए कुल इंटरव्यूज: 399,973

रद्द किए/रोके गए: 80,355

शेष: 319,618


एमआरयूसी’ की ओर से जारी बयान के अनुसारइंडस्‍ट्री को विश्‍वसनीय और मजबूत आंकड़े उपलब्‍ध कराने के लिए ‘IRS Techcom’, ‘RSCI’, ‘MRUC’ के साथ मार्केट रिसर्च फर्म ‘नील्‍सन’ (Nielsen) की टीम ने भी अपने स्‍तर से कोई कसर नहीं छोड़ी है।


आईआरएस 2013 में जहां 2,35000 घरों का सर्वे किया गयावहीं आईआरएस 2017 के सर्वे में 330,000 हाउसहोल्‍ड को शामिल किया गया। इनमें शहरी क्षेत्र में 2.14 लाख और ग्रामीण क्षेत्रों में 1.16 लाख घरों को शामिल किया गयाजबकि आईआरएस 2013 में 2,35000 सैंपल साइज था।


आईआरएस 2017 में 600 से ज्‍यादा पब्लिकेशंस को कवर किया गया है। पहुंच व स्‍तर के आधार पर 71 प्रॉडक्‍ट कैटेगरी बनाई गई हैं। 28 राज्‍योंचार केंद्र शासित प्रदेशों के अलावा पांच लाख से अधिक जनसंख्‍या वाले 95 शहरों91 जिलों और 101 जिला समूहों को इसके तहत कवर किया गया है। 

 


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Tags headlines


Copyright © 2018 samachar4media.com