Share this Post:
Font Size   16

अमित शाह की खबर को लेकर बैकफुट पर TOI, छापा क्लेरीफिकेशन...

Published At: Saturday, 10 March, 2018 Last Modified: Saturday, 10 March, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।


आमतौर पर लोगों ने इस खबर को सच ही मान लिया था, लेकिन जब इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने इस पर तीखा कमेंट किया तो लोगों को लगा कि कुछ ना कुछ तो झोल है। खबर भाजपा अध्यक्ष अमित शाह से जुड़ी थी, सो टाइम्स ऑफ इंडिया प्रबंधन ने भी शायद री-चैक किया और वाकई में ये झोल पाया गया तो अगले दिन के एडीशन में इस गलती को समझकर क्लेरीफिकेशन जारी कर दिया गया।


टीओई की 6 मार्च की इस खबर की हैडिंग थी, ‘Shah most followed politician after Modi’। इस खबर के अंदर कहा गया था कि पीएम मोदी के 5 करोड़ फॉलोअर्स हैं ट्विटर पर और अमित शाह के एक करोड़ हो गए हैं। हालांकि इंस्टाग्राम और फेसबुक पर भी अमित शाह के फॉलोअर्स के आंकड़े इस खबर में थे, लेकिन मैसेज ये जा रहा था कि ट्विटर पर वो मोदी के बाद दूसरे सबसे फॉलो होने वाले नेता बन गए हैं। जोकि सही नहीं है, केजरीवाल के ही 1करोड़ 35 लाख फॉलोअर्स हैं और सुषमा के भी 1 करोड़ 15 लाख फॉलोअर्स हैं। इस खबर की कटिंग लेकर इतिहासकार रामचंद्र गुहा ने फौरन एक तल्ख ट्वीट कर डाला, ‘’ An astonishing piece of fake/paid news in the @timesofindia . Kejriwal and Sushma have more followers than Shah! When asked to bend, they crawl....’’

साफ था कि खबर लिखने वाले ने ढंग से समझाया नहीं था कि वो मोस्ट फोलॉड लीडर शाह को लिख रहा है तो सोशल मीडिया के तीनों प्लेटफॉर्म्स को जोड़कर लिख रहा है यानी फेसबुक, ट्विटर और इंस्टाग्राम। जबकि टीओआई के हिंदी अखबार ने इसे साफ साफ लिखा। जाहिर है टाइम्स ऑफ इंडिया को भी समझ आया कि खबर के चलते कनफ्यूजन बढ़ रहा है, सो अगले दिन के एडिशन में उसने इस बात को लेकर क्लेरीफिकेशन छाप दिया और तब जाकर बात बनी।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Tags headlines


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com