Share this Post:
Font Size   16

DTH कंपनियों में जंग जारी, TATA SKY पर नहीं दिखेंगे 100 चैनल्स...

Published At: Wednesday, 12 September, 2018 Last Modified: Wednesday, 12 September, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।। 

टेलिकॉम क्षेत्र में जियो की लॉन्चिंग के बाद जो हाल अन्य कंपनियों का हुआ उसी का डर अब डीटीएच सेक्टर की कंपनियों को भी सताने लगा है। यही वजह है कि रिलायंस इंडस्ट्रीज द्वारा जियो गीगाफाइबर के जरिए डीटीएच सेक्टर में उतरने से अब इस सेक्टर में भी जंग शुरू हो गई है और इसकी शुरुआत देश की सबसे बड़ी डीटीएच कंपनी टाटा स्काई ने शुरू की है। दरअसल, टाटा स्काई 23 सितंबर से अपने नेटवर्क पर 100 से अधिक चैनलों का प्रसारण बंद करने जा रही है। 

टाटा स्काई ने इस संबंध में अखबारों में विज्ञापन देकर आम जनता को इसके बारे में सूचित भी कर दिया है। इससे दर्शकों को कई प्रसिद्ध चैनल देखने को नहीं मिल पाएंगे। 

23 सितंबर से टाटा स्काई के नेटवर्क पर 80 से अधिक चैनलों का प्रसारण बंद हो जाएगा। इनमें कई बड़े चैनल भी हैं। नेटवर्क 18 के 67 से अधिक चैनल्स 23 सितंबर से टाटा स्काई पर नहीं दिखाई देंगे। इन चैनलों में कलर्स, एमटीवी, एचबीओ, न्यूज18, सीएनबीसी, सिनेप्लेक्स सहित सभी प्रमुख चैनल शामिल हैं। 


9 सितंबर को टाटा स्काई ने विज्ञापन के जरिए उन सभी चैनलों की लिस्ट जारी कर दी है, जो कि उसके प्लेटफॉर्म पर पूरी तरह से ब्लैकआउट हो जाएंगे। टाटा स्काई ने नोटिस में कहा है कि रिलायंस से उसके अनुबंध की शर्ते तय नहीं हो पा रही हैं, जिसकी वजह से उसे मजबूरी में ऐसा करना पड़ रहा है।

नेटवर्क 18 के अलावा सोनी पिक्चर्स नेटवर्क (एसपीएन) ने भी टाटा स्काई को नोटिस जारी करके अपनी तरफ से अनुबंध को दुबारा से नहीं करने पर उसके प्लेटफॉर्म पर प्रसारण बंद करने का नोटिस दिया है। एसपीएन ने कहा है कि इस नोटिस के जारी होने के 15 दिनों के बाद कंपनी सोनी टीवी के चैनलों का प्रसारण बंद कर देगा। बता दें कि एसपीएन के करीब 37 से ज्यादा चैनल हैं, जिनका वो डिस्ट्रीब्यूशन करता है। 

Tags headlines


पोल

‘नेटफ्लिक्स’ और ‘हॉटस्टार’ जैसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की मांग को लेकर क्या है आपका मानना?

सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाने चाहिए

इन पर अश्लील कंटेट प्रसारित करने के आरोप सही हैं

आज के दौर में ऐसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करना बहुत मुश्किल है

Copyright © 2018 samachar4media.com