Share this Post:
Font Size   16

क्या देश का मीडिया वाकई भ्रष्ट है? पढ़ें सुधीर चौधरी का जवाब...

Published At: Friday, 25 January, 2019 Last Modified: Friday, 25 January, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

मीडिया पर समय-समय पर भ्रष्ट होने के आरोप लगते रहते हैं। कुछ लोगों का मानना है कि मीडिया खास एजेंडे के तहत काम करती है और कई मामलों में पूरा सच जनता के सामने नहीं आ पाता है। ऐसे ही कुछ सवालों को लेकर ‘जी न्यूज’ के एडिटर-इन-चीफ सुधीर चौधरी से समाचार4मीडिया डॉट कॉम के संपादकीय प्रभारी अभिषेक मेहरोत्रा ने जानना चाहा कि आखिर वह इस मामले में क्या सोचते हैं?

इस बातचीत के दौरान सुधीर चौधरी ने कहा, ‘मैं ये नहीं मानता कि पूरा मीडिया भ्रष्ट है, लेकिन मैं ये जरूर मानता हूं कि मीडिया का एक वर्ग राजनीतिक पार्टियों के कार्यकर्ताओं की तरह काम करने लगा है। मीडिया का ये वर्ग हमेशा अपने हितों की बात करता है।‘

सुधीर चौधरी का कहना था, ‘मैं ये नहीं कह रहा हूं कि वे भ्रष्ट होंगे या पैसा लेते होंगे, क्योंकि इसका मेरे पास कोई सबूत नहीं है। लेकिन मीडिया का एक वर्ग ऐसा जरूर है, जो अपने दर्शकों के साथ और अपने पाठकों के साथ बेईमानी कर रहा है। उनका विश्वास तोड़ रहा है। मीडिया का ऐसा वर्ग खास एजेंडे के तहत अपनी खबर चलाता है।’

ऐसा ही एक उदाहरण देते हुए सुधीर चौधरी ने कहा, ‘जब जेएनयू और कन्हैया प्रकरण हुआ था, तब एक अखबार में इस बारे में फ्रंट पेज पर खबर छपती थी। कन्हैया कुमार जब गिरफ्तार हुआ तब भी उसकी फोटो-खबर फ्रंट पेज पर छापी। यही नहीं, कन्हैया कुमार और प्रधानमंत्री की फोटो साथ-साथ लगी और दोनों की तुलना भी कर दी गई। लेकिन जब चार्जशीट आई और उन लोगों की पूरी पोल खुल गई तब अखबार ने फ्रंट पेज पर न लेकर उस न्यूज को अंदर चार नंबर पेज पर लगाया। कहने का मतलब है कि बड़ी ही स्मार्टली पाठकों के साथ बेईमानी कर दी गई और पाठकों को पता भी नहीं चला।’

इस बातचीत के दौरान सुधीर चौधरी का यह भी कहना था, ‘इस तरह हमारे दर्शकों/पाठकों के साथ हो रही बेईमानी को देखते हुए हमें लगा कि उन्हें इस बात से अवगत कराना भी हमारी जिम्मेदारी है और वह हम कर रहे हैं। बेशक हमारे दुश्मन ज्यादा हैं, मीडिया में भी हमारे बहुत सारे दुश्मन हैं और कई लोग हमें पसंद नहीं करते हैं, लेकिन हमारा असली मकसद ये है कि हमारे दर्शकों के अच्छा लगना चाहिए। हमारा रिश्ता हमारे दर्शकों के साथ होना चाहिए। हम और हमारे दर्शक एक परिवार की तरह हैं।’

यहां देखें इस बातचीत का विडियो-



पोल

पुलवामा में आतंकी हमले के बाद हुई मीडिया रिपोर्टिंग को लेकर क्या है आपका मानना?

कुछ मीडिया संस्थानों ने मनमानी रिपोर्टिंग कर बेवजह तनाव फैलाने का काम किया

ऐसे माहौल में मीडिया की इस तरह की प्रतिक्रिया स्वाभाविक है और यह गलत नहीं है

भारतीय मीडिया ने समझदारी का परिचय दिया और इसकी रिपोर्टिंग एकदम संतुलित थी

Copyright © 2019 samachar4media.com