Share this Post:
Font Size   16

अब #MeeToo में फंसे एम.जे.अकबर, होटल के कमरे में करते थे महिलाओं का इंटरव्यू!

Published At: Wednesday, 10 October, 2018 Last Modified: Wednesday, 10 October, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

यौन शोषण के खिलाफ शुरू हुआ #MeeToo कैंपेन लगातार जोर पकड़ता जा रहा है। तकरीबन रोजाना इससे जुड़े मामले सामने आ रहे हैं। बॉलिवुड से मीडिया होते हुए अब राजनीति से जुड़े लोग भी इसमें शामिल होते जा रहे हैं। अब इस कैंपेन के शिकार हुए हैं पूर्व संपादक और विदेश राज्य मंत्री एम.जे अकबर, जिन पर छह महिला पत्रकारों ने यौन शोषण का आरोप लगाया है।

इन महिला पत्रकारों का आरोप है कि एमजे अकबर ने अखबार के संपादक के तौर पर काम करने के दौरान ऐसा किया। हालांकि एमजे अकबर की तरफ से अभी तक इस मामले पर कोई सफाई सामने नहीं आई है। वहीं, कांग्रेस ने इस मामले में चुप्पी को लेकर विदेश मंत्री सुषमा स्वराज पर निशाना साधा है। 

साल 2017 में एक महिला पत्रकार ने बताया था कि उसके बॉस ने उसे होटल के कमरे में जॉब के लिए इंटरव्यू के लिए बुलाया था। अब प्रिया रमानी नामक महिला ने ट्वीट किया है कि एमजे अकबर ने होटल रूम में इंटरव्यू के दौरान कई महिला पत्रकारों के साथ आपत्तिजनक हरकतें की।


हार्वे विन्सिटन ऑफ द वर्ल्ड नाम से लिखे पोस्ट में कहा गया है कि अकबर ने होटल के एक कमरे में उनका इंटरव्यू लिया था। साथ ही उन्होंने शराब भी ऑफर की। अकबर ने महिला पत्रकार को बिस्तर पर उनके पास बैठने को भी कहा था। महिला ने लिखा है कि कई युवा महिलाएं उनकी गलत हरकतों की भुक्तभोगी हैं। लेख के प्रकाशन के समय आरोपी का नाम नहीं दिया गया था, अब बताया गया कि वे एमजे अकबर हैं।

प्रिया रमानी नाम की महिला ने ट्वीट में इस आरोप को प्रमाणित करते हुए कहा है कि वह भी उनकी गलत हरकत की शिकार हुई। उसके साथ मुंबई के एक होटल में आपत्तिजनक हरकत की गई। वहीं, शुमा राहा नाम की महिला ने ट्वीट में कहा, उसके साथ 1995 में ताज बंगाल होटल, कोलकाता में एमजे अकबर ने गलत हरकत की। इस कारण उसने नौकरी की पेशकश ठुकरा दी थी।

1995 से 1997 तक ‘एशियन एज’ और अन्य प्रकाशनों में अकबर के साथ काम कर चुकीं स्वतंत्र पत्रकार कनिका गहलोत ने भी अकबर पर आरोप लगाए हैं। गहलोत ने कहा, ‘मैंने अकबर के साथ तीन वर्षों तक काम किया। लेकिन शुरुआत में ही मुझे एक शख्स ने आगाह कर दिया था।‘ कनिका का कहना है, ‘मुझे एक बार होटल में बुलाया गया था। अकबर ने कहा कि सुबह एक साथ नाश्ता करेंगे। हम सब उनकी आदत से वाकिफ हो चुके थे। मैंने उनके बुलावे पर आने के लिए हामी भर दी लेकिन अगले दिन फोन कर कहा कि मैं ज्यादा देर तक सोती रह गई और नहीं आ सकी। इसके बाद उन्होंने मुझे परेशान नहीं किया।‘

ऐसा ही आरोप दिल्ली में ‘द एशियन एज’ की रेजिडेंट एडिटर सुप्रिया शर्मा ने लगाया है। शर्मा के मुताबिक, उस समय उनकी उम्र करीब 20 साल थी। वे उस अखबार की लॉन्च टीम का हिस्सा थीं, जहां उन्होंने 1993 से 1996 तक काम किया। वे अकबर को रिपोर्ट करती थीं। शर्मा ने बताया कि एक दिन काम करने के दौरान अकबर उनके पीछे खड़े थे। शर्मा बताती हैं, ‘उन्होंने मेरे कपड़े खींचे और कुछ कहा। मैं उन पर चिल्लाई।‘ इसके कुछ दिनों बाद की घटना के बारे में शर्मा का कहना है कि उन्होंने एक टीशर्ट पहनी थी, जिसके उपर कुछ लिखा हुआ था। इस दौरान अकबर घूमते हुए केबिन में आए और मेरे सीने की ओर देखते हुए कुछ कहा, जिसे मैंने अनसुना कर दिया।

एक अन्य घटना को लेकर शर्मा ने बताया, ‘एक महिला जिसने उसी समय ऑफिस जॉइन किया था, शॉर्ट्स पहनकर आई थी। इस दौरान अकबर अपने केबिन से बाहर आए। जब वह महिला कुछ उठाने के लिए जमीन पर झुंकी तो उन्होंने मेरी ओर इशारा करते हुए पूछा कि ये कौन है?’ शर्मा कहती हैं, ‘यह असहज और शर्मनाक स्थिति थी। ऐसा करना उनका प्रतिदिन का काम था। कोई इससे बचा हुआ नहीं था और उस समय ऐसी कोई कमेटी नहीं थी, जहां जाया जा सके।‘

शर्मा ने कहा कि कम से कम तीन महिलाओं ने उन्हें यौन दुर्व्यवहार के बारे में बताया। शर्मा के मुताबिक, ‘उन्होंने लगभग सभी महिलाओं का उसी तरह से पीछा किया। होटल में मीटिंग, उनके काम को रोके रहना, उन्हें शहर से बाहर भेजना और फिर उन्हें होटल में मिलने की व्यवस्था करना या फिर उन्हें कार ट्रिप पर साथ लेकर जाना। उन्होंने ज्यादातर उन युवा महिलाओं पर शिकार बनाया, जो अकेली रहती थीं। नौकरी करना चाहती थी और अपना करियर बनाना चाहती थीं।‘

पत्रकार प्रेरणा सिंह बिंद्रा ने एमजे अकबर का नाम लिए बिना इसी तरह की एक घटना के बारे में सात अक्टूबर को ट्वीट किया। वे कहती हैं, ‘एक ‘प्रख्यात’ संपादक ने मुझे ‘काम पर चर्चा’ करने के लिए होटल में बुलाया और फिर जब मैंने मना कर दिया तो पढ़ रही मैगजीन को बेड पर रख दिया।‘ 8 अक्टूबर को बिंद्रा ने अकबर का नाम शामिल किया।

वे कहती हैं, ‘जब मैंने रात में होटल के कमरे में जाने से मना कर दिया, चीजें बुरी होने लगी। एक बार जब पूरी टीम की मीटिंग हो रही थी, उस समय भी अकबर ने भद्दी टिप्पणी की थी। बाद में एक और लड़की ने मुझे बताया था कि उसे भी होटल के कमरे में मिलने के लिए बुलाया गया था। मैं शहर में अकेली रह रही थी, इसलिए चुप रही। मंगलवार को अकबर के खिलाफ एक और पत्रकार सामने आई। शतापा पॉल ने रमानी के ट्वीट को रिट्वीट करते हुए लिखा, ‘मी टू। एमजे अकबर 2010-11 कोलकाता में इंडिया टुडे में काम करने के दौरान।‘

गौरतलब है कि #MeeToo का सिलसिला तब शुरू हुआ, तब तुनश्री दत्ता ने अपने साथ हुए कथित यौन शोषण को लेकर अभिनेता नाना पाटेकर पर गंभीर आरोप लगाए थे। धीरे-धीरे इसके कैंपेन के तहत कई लोग सामने आ रहे हैं। इस कड़ी में फिल्मकार विकास बहल, अभिनेता रजत कपूर सहित कई लोगों पर आरोप लगाए गए हैं।

इन सबके बीच केंद्रीय महिला और बाल विकास मंत्री मेनका गांधी ने भी #MeeToo कैंपेन पर खुशी जताते हुए कहा कि इससे भारत में महिलाओं को सामने आकर शिकायत करने का हौसला मिला है।



पोल

मीडिया में सर्टिफिकेशन अथॉरिटी को लेकर क्या है आपका मानना?

इस कदम के बाद गुणवत्ता में निश्चित रूप से सुधार आएगा

मीडिया अलग तरह का प्रोफेशन है, इसकी जरूरत नहीं है

Copyright © 2018 samachar4media.com