Share this Post:
Font Size   16

IIMC में अजब तमाशा: धरने के विरोध में धरना....

Thursday, 08 February, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

देश के प्रतिष्ठित मीडिया संस्थान भारतीय जनसंचार संस्थान में इन दिनों राजनीतिक गतिविधियां जन्म लेने लगी हैं। आलम ये है कि यहां छात्रों के दो गुट अनिश्चितकालीन भूख हड़ताल पर बैठ गए हैं और इसकी वजह है हॉस्टल और लाइब्रेरी की मांग को लेकर शुरू हुआ छात्रों का आंदोलन।

दरअसल हुआ यूं कि छात्रों ने मैनेजमेंट के सामने हॉस्टल और लाइब्रेरी व रीडिंग रूम का समय बढ़ाकर 24 घंटे या रात 12 बजे तक किए जाने की मांग रखी थी। मिली जानकारी के मुताबिक, इन मांगो को लेकर मैनेजमेंट ने अपना जवाब दिया तो, लेकिन जवाब से अंसतुष्ट छात्रों ने बार-बार मैनेजमेंट के समक्ष लिखित में अपनी बात रखी, लेकिन हर बार निराशा हाथ लगने और सभी मांगे पूरी न करने पर छात्रों ने आंदोलन करने की बात कही। वैसे तो मैनेजमेंट ने उनकी कुछ मांगे मान ली है, लेकिन इसके बाद यहां के छात्र दो गुटों में बंट गए हैं।

पहले गुट का कहना है कि उन्हें आने वाले छात्रों के लिए हॉस्टल सुविधा देने की लिखित गारंटी चाहिए। इसके अलावा रीडिंग रूम में वाई-फाई की सुविधा और 24 घंटे लाइब्रेरी की सुविधा चाहिए। इन लोगों ने अपनी मांग पूरी न होने पर विरोध प्रदर्शन और भूख हड़ताल जारी रखने की बात कही है।

वहीं दूसरे गुट का कहना है कि मैनेजमेंट ने लाइब्रेरी व रीडिंग रूम का समय बढ़ा दिया है और वे अब इसे लेकर अब संतुष्ट हैं। इसके अलावा इन छात्रों ने हॉस्टल के मुद्दे पर प्रशासन के आश्वासन पर भी अपनी सहमति जताई है। लेकिन कुछ छात्रों द्वारा स्वार्थवश किए जा रहे आंदोलन का वे पुरजोर विरोध कर रहे हैं, क्योंकि इससे उनकी पढ़ाई और व्यवस्था बाधित हो रही है। हालांकि इन लोगों ने यह भी आरोप लगाया कि कुछ छात्र बाहरी लोगों के बहकावे में आकर ऐसा कर रहे हैं। वे उन्हें जान से मारने व गायब करने की धमकी भी दे रहे हैं। इन छात्रों ने पहले गुट के विरोध को राजनीति व स्वार्थ से प्रेरित बताया और कहा कि वे तब तक भूख हड़ताल व विरोध प्रदर्शन को जारी रखेंगे, जब तक पहला गुट अपना विरोध प्रदर्शन वापस नहीं ले लेता।

आईआईएमसी प्रबंधन का कहना है कि हमने सब उचित मांगे मान ली है, पर बेवजह अब इस मुद्दे को तूल दिया जा रहा है। 

मैनेजमेंट ने विवरण पुस्तिका की दलील देते हुए कहा कि यह बात स्पष्ट की है कि दिल्ली कैंपस में छात्रों के लिए हॉस्टल सुविधा नहीं है। इस दौरान उन्होंने यह भी कहा कि मैनेजमेंट बीच में 2-3 सालों के लिए छात्रों को हॉस्टल सुविधा प्रदान की थी, लेकिन तब हॉस्टल खाली थे। इस बार दिल्ली व आस-पास की लड़कियों ने भी सुरक्षा का हवाला देते हुए हॉस्टल की मांग की थी, जिसके बाद उन्हें भीमराव अम्बेडकर छात्रावास में शिफ्ट किया गया है।


हालांकि मैनेजमेंट का कहना है कि वे आगामी सत्र में आने वाले छात्रों को भीमराव अम्बेडकर छात्रावास प्रदान नहीं कर सकते है, क्योंकि यह संस्थान मुख्यतः भारतीय प्रशासनिक सेवा के अधिकारियों के लिए है जिनका नया बैच आने वाला है। मैनेजमेंट ने दलील दी है कि छात्राएं यदि खुद से हॉस्टल छोड़ना चाहे या फिर किसी और छात्रा को अपने साथ रखना चाहे तो इसमें उन्हें अभी कोई आपत्ति नहीं है।   

 


समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी राय, सुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Tags headlines


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com