Share this Post:
Font Size   16

कई वर्षों की मांग हुई पूरी, FM रेडियो चैनल्स को मिली ये अनुमति

Published At: Tuesday, 08 January, 2019 Last Modified: Wednesday, 09 January, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।
देश-दुनिया की खबर रखने वालों के लिए अच्छी खबर है। अब वो प्राइवेट एफएम चैनलों पर भी ऑल इंडिया रेडियो के समाचार सुन सकेंगे। सूचना प्रसारण मंत्री राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने मंगलवार को एक कार्यक्रम में इसका ऐलान किया। उन्होंने बताया कि सरकार ने निजी एफएम चैनलों को रेडियो पर प्रसारित होने वाले समाचारों के इस्तेमाल की इज़ाज़त दे दी है। हालांकि, उनके लिए कुछ दिशा निर्देश तैयार किये गए हैं। मसलन, एफएम चैनलों को समाचारों को हूबहू उसी रूप में पेश करना होगा जैसा कि रेडियो पर प्रसारित किया गया है। एफएम चैनल समाचारों में किसी भी तरह का बदलाव नहीं कर पाएंगे। इसके अलावा, उन्हें किसी अन्य समाचार और करेंट अफेयर्स संबंधी कार्यकर्मों को ऑन एयर करने की इज़ाज़त भी नहीं होगी।

वैसे काफी पहले ही इस संबंध में सहमति बन गई थी, लेकिन अंतिम फैसला अब लिया जा सका है। मंगलवार को दिल्ली में आयोजित एक कार्यक्रम में राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने इसकी जानकारी दी। इस मौके पर ख़ुशी व्यक्त करते हुए उन्होंने कहा कि ‘यह ख़ुशी का अवसर है कि आम नागरिक अब किसी भी एफएम चैनल पर समाचार सुन सकेंगे। सरकार के इस फैसले से लोगों में जागरुकता बढ़ेगी।’ राठौड़ के मुताबिक, फ़िलहाल यह योजना ट्रायल बेसिस पर है। सभी एफएम चैनल 8 से जनवरी से 31 मई तक ऑल इंडिया रेडियो के समाचारों का प्रसारण कर पाएंगे। वो किस भाषा (हिंदी या अंग्रेजी) में न्यूज़ का प्रसारण करना चाहते हैं, ये फैसला उन पर है, लेकिन उन्हें समाचारों में किसी भी तरह का बदलाव करने की इज़ाज़त नहीं होगी। एफएम चैनलों को इसके लिए शुल्क का भुगतान नहीं करना होगा, वो मुफ्त में समाचार साझाकरण’ योजना के तहत ऑल इंडिया रेडियो के समाचार इस्तेमाल कर पाएंगे।

प्रसार भारती के सीईओ शशिशेखर वेम्पती ने बताया कि करीब 100 एफएम चैनल्स ने आज आकाशवाणी न्यूज के लिए रजिस्ट्रेशन कराया है। 

गौरतलब है कि निजी एमएफ चैनल काफी समय से समाचारों के प्रसारण की इज़ाज़त की मांग करते आ रहे हैं। इसी के मद्देनज़र 16 जुलाई 2014 को लोकसभा में प्रश्नकाल के दौरान एक सवाल के जवाब में पूर्व सूचना प्रसारण मंत्री प्रकाश जावड़ेकर ने स्पष्ट किया था कि निजी रेडियो चैनल ऑल इंडिया रेडियो यानी आकाशवाणी में पढ़े जाने वाले समाचारों के अंश जस के तस सुनवा सकते हैं। उन्होंने बताया था कि मौजूदा दिशा-निर्देशों में निजी रेडियो चैनलों के लिए समाचार सुनाने के प्रावधान नहीं हैं। निजी रेडियो चैनलों के लिए बन रहे तीसरे चरण के दिशा-निर्देशों के तहत आकाशवाणी के समाचार सुनाने की व्यवस्था की जा रही है। निजी चैनलों के प्रस्तोता भी आकाशवाणी के समाचार पढ़ सकेंगे।

दरअसल, राकांपा सांसद सुप्रिया सुले ने सरकार से जानना चाहा था कि निजी रेडियो चैनलों को समाचार सुनाने की अनुमति देने पर सरकार को क्या एतराज है? इस पर जावड़ेकर ने स्पष्ट किया था कि सिद्धांततः वह इसके पक्ष में हैं। इसीलिए आकाशवाणी के समाचार पेश करने की अनुमति दी जा रही है।



पोल

पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार कानून बनाने जा रही है, इस पर क्या है आपका मानना

सिर्फ कानून बनाने से कुछ नहीं होगा, कड़ाई से पालन सुनिश्चित हो

अन्य राज्य सरकारों को भी इस दिशा में कदम उठाने चाहिए

सरकार के इस कदम से पत्रकारों पर हमले की घटनाएं रुकेंगी

Copyright © 2019 samachar4media.com