Share this Post:
Font Size   16

‘धनतेरस’ पर ‘पत्रिका’ की नई शुरुआत, यूं हुई नए पाठकों से मुलाकात

Published At: Monday, 05 November, 2018 Last Modified: Monday, 05 November, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

देश के बड़े मीडिया घरानों में से एक ‘पत्रिका’ ग्रुप ने अब अपना विस्तार करते हुए नौवें राज्य में दस्तक दे दी है और यह राज्य है ‘महाराष्ट्र’। इस राज्य के पाठकों के बीच पहुंच बनाने के लिए उसने अपना पहला कदम मुंबई में रखा और शुभदिन ‘धनतेरस’ (सोमवार) से पहले एडिशन की शुरुआत कर दी।

राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, गुजरात, कर्नाटक तमिलनाडु, पश्चिम बंगाल और दिल्ली में सफलता के कीर्तिमान रचने के बाद ‘पत्रिका’ ने अब महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई को चुना, जहां से उसने अपना पहला एडिशन सोमवार को शुरू किया।

उम्मीद की जा रही है कि ‘पत्रिका’ यहां भी शासन-प्रशासन तक आमजन के लिए अपनी बात पहुंचाने का सेतु बनेगा और राजधानी मुंबई से निकलकर महाराष्ट्र के दूरस्थ इलाकों में स्थानीय खबरों के साथ अपनी पहुंच बनाएगा।

गौरतलब है कि स्वर्गीय कर्पूर चन्द्र कुलिश ने 7 मार्च 1956 को राजस्थान में ‘पत्रिका’ की आधारशिला रखी और शाम को प्रकाशित होने वाले समाचार पत्र ‘राजस्थान पत्रिका’ के रूप में इसकी शुरुआत की। इसके पहले कर्पूर चन्द्र कुलिश उस समय के मुख्य समाचार पत्र ‘राष्ट्रदूत’ के लिए कार्य करते थे। उस दौरान राजस्थान में अन्य दो प्रमुक समाचार पत्र ‘लोकवाणी’ और ‘नवयुग’ ही थे और ये दोनों ही दिल्ली आधारित समाचार पत्र थे।

1964 में यह समाचार पत्र सुबह प्रकाशित होने वाला समाचार पत्र बना। इसके बाद पत्रिका ने अपना पहला संस्करण जोधपुर में 1981 में प्रकाशित किया और अपने उदयपुर प्रकाशन के साथ समाचार पत्र ने एक कदम और आगे बढ़ाया। कोटा संस्करण मार्च 1986 और बीकानेर संस्करण अगस्त 1987 में जोड़े गए। सन 2000 में नए संस्करण भीलवाड़ा, सीकर, श्रीगंगानगर आरम्भ हुए। वहीं वर्ष 1996 में ही कर्नाटक की राजधानी बेंगलुरु से प्रकाशन के साथ ही दक्षिण भारत में भी पत्रिका ने दस्तक दी। पत्रिका ने तमिलनाडु में वर्ष 2004 में राजधानी चेन्नई से संस्करण की शुरुआत की थी। इस तरह विस्तार की ओर कदम बढ़ाते हुए यह ग्रुप अब नौ राज्यों में अपनी पहुंच बना चुका है और मुंबई संस्करण उसका 38वां संस्करण है। 



पोल

पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार कानून बनाने जा रही है, इस पर क्या है आपका मानना

सिर्फ कानून बनाने से कुछ नहीं होगा, कड़ाई से पालन सुनिश्चित हो

अन्य राज्य सरकारों को भी इस दिशा में कदम उठाने चाहिए

सरकार के इस कदम से पत्रकारों पर हमले की घटनाएं रुकेंगी

Copyright © 2019 samachar4media.com