Share this Post:
Font Size   16

ABP न्यूज की एंकर चित्रा त्रिपाठी ने किस बड़े संपादक को सुनाई खरी खरी!

Tuesday, 24 April, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

आमतौर पर एबीपी न्यूज की एंकर चित्रा त्रिपाठी को न्यूज चैनल इंडस्ट्री के बड़े ही सौम्य एंकर्स में गिना जाता है। जितनी उनकी स्क्रीन प्रजेंस दमदार है, सोशल मीडिया पर उतनी ही वे शालीन रहती हैं, कभी उन्हें अपने फॉलोअर्स या विरोधियों के साथ कड़े तेवरों के साथ नहीं देखा गया, जैसा कि कई बाकी पत्रकार करते हैं। लेकिन जिस तरह से उन्होंने इंडस्ट्री के एक बड़े संपादक को खरी खरी सुनाई, वो भी सार्वजनिक प्लेटफॉर्म पर, उससे लगा कि वो वाकई गुस्से में हैं। दिलचस्प बात ये थी कि ये कोई पर्सनल मामला नहीं था बल्कि उनके गुस्से के पीछे था पाकिस्तान।

जिन संपादक महोदय से चित्रा त्रिपाठी नाराज थीं, उनका नाम है शेखर गुप्ता। इंडियन एक्सप्रेस के सालों तक संपादक रहे शेखर गुप्ता एनडीटीवी पर अपने इंटरव्यू शो वॉक द टॉकको लेकर भी टीवी ऑडियंस के बीच मशहूर रहे हैं। फिलहाल अपना मीडिया हाउस प्रिंटचला रहे हैं। दरअसल चित्रा की नाराजगी की वजह भी बना उनकी वेबसाइट प्रिंट के हिंदी और अंग्रेजी संस्करणों में छपा एक लेख जो किसी पाकिस्तानी प्रोफेसर ने लिखा था। वो लेख पाकिस्तान के अखबार 'डॉन' में छपा था, जिसको क्रेडिट देकर प्रिंट ने अपने यहां छाप लिया था।

दिलचस्प बात थी कि शेखर गुप्ता ने उस लेख का न केवल अंग्रेजी संस्करण बल्कि हिंदी अनुवाद भी अपने ट्विटर अकाउंट से शेयर किया था। आमतौर पर वो ऐसा नहीं करते हैं। उस लेख की हेडिंग ही कुछ ऐसी थी कि कई लोगों को चुभी, हेडिंग थी- नेहरू की जगह यदि मोदी भारत के पहले पीएम होते तो भारत मूर्खता विज्ञान का गढ़ बन जाता

कोई भारतीय इसे लिखता तो शायद कोई बात ना होती लेकिन किसी पाकिस्तानी ने लिखा और उसे किसी भारतीय प्रकाशन ने तबज्जो दी, यही बड़ी बात थी। उस पर भी जिसने लेख लिखा, वो महाशय परवेज हुदभॉय फिजिक्स के प्रोफेसर हैं, कोई राजनीति एक्सपर्ट नहीं।

इसी लेख को शेखर गुप्ता ने जब हिंदी में अपने ट्विटर पर शेयर किया, तो उनके लेख को शेयर करते हुए चित्रा त्रिपाठी ने लिखा, और शेखर गुप्ता जी पाकिस्तान के सर्टिफिकेट को लेकर उसे लड्डू बांटते। हद है। दुश्मन देश के आर्टिकल पर देश का पत्रकार अपने ही PM को लेकर तथाकथित टिप्पणी पर फूला नहीं समा रहा।

इतना ही नहीं चित्रा त्रिपाठी ने शेखर गुप्ता के साथ साथ पीएम नरेन्द्र मोदी को भी टैग कर दिया। हालांकि ना तो शेखर गुप्ता ने कोई जवाब दिया और ना ही पीएम ने। लेकिन मोदी के चाहने वालों के निशाने पर शेखर गुप्ता जरूर आ गए, साथ ही साथ उन लोगों ने पंडित नेहरू से जुड़े तमाम सत्य-असत्य पोस्ट भी शेयर करने शुरू कर दिए। जो भी हो, किसी प्रतिष्ठित एंकर का किसी प्रतिष्ठित संपादक के सामने खुलकर आना दिलचस्प मामला तो था ही।   आप प्रिंट के इस हेडिंग पर क्लिक कर उस पाकिस्तानी प्रोफेसर का लेख पढ़ सकते हैं- नेहरू की जगह यदि मोदी भारत के पहले पीएम होते तो भारत मूर्खता विज्ञान का गढ़ बन जाता

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं। 

Tags headlines


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com