Share this Post:
Font Size   16

जगदीश चंद्रा के 'फर्स्ट इंडिया न्यूज' ने दिखाया दम...

Published At: Friday, 29 June, 2018 Last Modified: Friday, 29 June, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

रीजनल चैनलों की दुनिया का बड़ा नाम है जगदीश चंद्रा। रीजनल चैनल को नंबर वन पॉजिशन पर कैसे पहुंचाते हैंवे इस कला में माहिर है। चाहे ईटीवी रहा हो या जी समूह के रीजनल चैनलजगदीश चंद्रा के नेतृत्व में खूब झंडे गाड़े गए हैं। अब यही प्रदर्शन दोहराया है अपने नए चैनल ‘फर्स्ट इंडिया न्यूज’ के लिए।

राजस्थान से लॉन्च हुए इस चैनल ने अब पूरे प्रदेश पर अपना परचम लहरा दिया है। चाहे रेटिंग्स की बात होया फिर लोकप्रियता की। चैनल ने अपने दमदार कंटेंट के जरिए घर-घर में जगह बना ली है।

उल्लेखनीय है कि मुख्यमंत्री श्रीमती वसुंधरा राजे के हाथों 4 जून,2018 को फर्स्ट इंडिया न्यूज की री-लॉन्चिंग से धमाकेदार शुरुआत हुई थी। होटल मैरिएट में हुए री-लॉन्चिंग कार्यक्रम के बारे में टेलिविजन इंडस्ट्री से जुड़े लोगों का कहना है कि राजस्थान में पिछले 5-7 वर्षों में इतनी जबरदस्त रीलॉन्चिंग किसी दूसरे न्यूज चैनल की नहीं हुई। इस रीलॉन्चिंग समारोह में हाई कोर्ट जजेसमंत्रिमंडल के वरिष्ठ सदस्यचीफ सेक्रेट्रीडीजीपी तथा बड़ी संख्या में उद्योगपति व गणमान्य नागरिक मौजूद थे।

चैनल ने प्रदेशभर में 422 संवाददाताओं की बड़ी टीम के साथ ‘सबसे पहलेसबसे तेज’ के स्लोगन को गति देते हुए री-लॉन्चिंग के दूसरे सप्ताह में ही चैनल ने एक नया इतिहास रच दिया है। शहरी क्षेत्र हो या ग्रामीणचैनल की कवरेज हर आम मुद्दे को प्रभावशाली तरीके से दिखा रही हैऐसे में विधानसभा चुनाव के इंतजार कर रहे राज्य के लोगों को अपनी बात कहने के लिए एक प्लेटफॉर्म मिला हैजिसे वे हाथों-हाथ ले रहे हैं।

 

समाचार4मीडिया.कॉम देश के प्रतिष्ठित और नं.1 मीडियापोर्टल exchange4media.com की हिंदी वेबसाइट है। समाचार4मीडिया में हम अपकी राय और सुझावों की कद्र करते हैं। आप अपनी रायसुझाव और ख़बरें हमें mail2s4m@gmail.com पर भेज सकते हैं या 01204007700 पर संपर्क कर सकते हैं। आप हमें हमारे फेसबुक पेज पर भी फॉलो कर सकते हैं।  

Tags headlines


पोल

क्या इंडिया टीवी के चेयरमैन रजत शर्मा का क्रिकेट की दुनिया में जाना सही है?

हां, उम्मीद है कि वे वहां भी उल्लेखनीय कार्य कर सुधार करेंगे

नहीं, जिसका काम उसी को साजे। उनका कर्मक्षेत्र मीडिया ही है

बड़े लोगों की बातें, बड़े ही जाने, हम तो सिर्फ चुप्पी साधे

Copyright © 2018 samachar4media.com