Share this Post:
Font Size   16

enba2018: इंडिया टुडे ग्रुप की कली पुरी ने इस तरह की 'मन की बात'

Published At: Monday, 18 February, 2019 Last Modified: Tuesday, 19 February, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

‘एक्‍सचेंज4मीडिया न्‍यूज ब्रॉडकास्टिंग अवॉर्ड्स’ (enba)16 फरवरी को नोएडा के होटल रेडिसन ब्लू में आयोजित एक समारोह में दिए गए। इनबा का यह 11वां एडिशन था, जिसमें विभिन्न कैटेगरी में ‘इंडिया टुडे’ (India Today) समूह को 19 अवॉर्ड्स मिले।

टाइटल कैटेगरी में दोनों अवॉर्ड्स इस मीडिया हाउस की झोली में गए। एक तरफ जहां हिंदी में ‘आजतक’ (AajTak) ने ‘बेस्ट न्यूज चैनल ऑफ द ईयर’ का अवॉर्ड अपने नाम किया, वहीं इंग्लिश कैटेगरी में ‘इंडिया टुडे टीवी’ (India Today TV) को ‘न्यूज चैनल ऑफ द ईयर’ अवॉर्ड दिया गया।

समारोह में अंजना ओम कश्यप को बेस्ट एंकर-हिंदी और राहुल कंवल को बेस्ट एंकर-अंग्रेजी का अवॉर्ड मिला। इसके अलावा ‘इंडिया टुडे टीवी’ के शिव अरूर को कर्नाटक में कावेर और कोलार विवाद पर कवरेज के लिए बेस्ट रिपोर्टर (अंग्रेजी) का अवॉर्ड दिया गया।

इस मौके पर ‘इंडिया टुडे’ ग्रुप की वाइस चेयरपर्सन कली पुरी ने कहा, ‘हमारे 25 करोड़ दर्शकों के लिए ‘आजतक’ सिर्फ एक न्यूज चैनल नहीं है, बल्कि यह एक मिशन है, अभियान है और एक प्रेरणा है। हमारे लिए राष्ट्र ही सर्वेपरि है। टीआरपी हो, विज्ञापन हो अथवा कोई राजनीतिक दल, हमारे लिए इन सबसे बढ़कर देश है। मैं इस बात को फिर दोहराना चाहती हूं कि हम अपना काम पूरी जिम्मेदारी से करेंगे और अपने दर्शकों का भरोसा बनाए रखेंगे।’

उन्होंने कहा,‘ये अवॉर्ड्स इस बात का प्रतीक हैं कि ‘आजतक’ और ‘इंडिया टुडे’ की टीम ने पत्रकारिता के मानकों को बरकरार रखा है। हम वादा करते हैं कि इस विश्वास और अखडंता को बनाए रखेंगे।’

कली पुरी ने कहा, ‘इंडिया टुडे के लिए यह काफी बड़ा सम्मान है। यदि मैं अपनी बात करूं तो यह अवॉर्ड शोरशराबे से दूर हटकर पत्रकारिता के मानकों को बनाए रखने के लिए है। हम दो मिनट वाली पत्रकारिता में यकीन नहीं रखते हैं, जो काफी आसान है। हालांकि हमें सब अपनी निजी राय रखने का हक है, लेकिन तथ्य हमेशा वास्तविक होने चाहिए। मेरे लिए और मेरी टीम के लिए तथ्य बहुत मायने रखते हैं और हम पत्रकारिता में उन्हें सबसे ज्यादा तवज्जो देते हैं। आपने ओपिनियन चाहे कितना ही अच्छे से पेश किए हों, लेकिन वे असली पत्रकारिता नहीं हो सकते हैं।’



पोल

पुलवामा में आतंकी हमले के बाद हुई मीडिया रिपोर्टिंग को लेकर क्या है आपका मानना?

कुछ मीडिया संस्थानों ने मनमानी रिपोर्टिंग कर बेवजह तनाव फैलाने का काम किया

ऐसे माहौल में मीडिया की इस तरह की प्रतिक्रिया स्वाभाविक है और यह गलत नहीं है

भारतीय मीडिया ने समझदारी का परिचय दिया और इसकी रिपोर्टिंग एकदम संतुलित थी

Copyright © 2019 samachar4media.com