Share this Post:
Font Size   16

न्यूज एजेंसी IANS कैसे कर सकती है इतना बड़ा ब्लंडर....

Published At: Thursday, 13 September, 2018 Last Modified: Thursday, 13 September, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

प्रतिष्ठित न्यूज एजेंसी आईएएनएस (IANS) की सर्विस तमाम मीडिया संस्थानों ने ले रखी है, लिहाजा हर कोई आईएएनएस की खबरें चलाता है। ऐसे में यदि एजेंसी से कोई बड़ी गलती हो जाए, तो क्या हो? शायद इसका अनुमान हर कोई लगा सकता है। आईएएनएस से एक ऐसा ही बड़ा ब्लंडर तब हुआ, जब उसने बुधवार को सरकार द्वारा नई फसल खरीद नीति को मंजूरी देने वाली फीड दी, जिसके लिए आईएएनएस को न केवल माफी मांगनी पड़ी, बल्कि उसे अपने स्तर पर कार्रवाई तक करनी पड़ी।

आईएएनएस की तरफ से यह फीड शाम को 6.21 बजे दी गई। इस फीड में बैठक की जरूरी सूचनाएं शामिल होने के साथ-साथ एक बड़ा ब्लंडर भी छिपा था। फीड में एक जगह पर प्रधानमंत्री के नाम में एक आपत्तिजनक शब्द जोड़ दिया गया था। लेकिन जैसे ही एजेंसी को इस भारी चूक का अंदाजा हुआ, उसने तुरंत ये खबर को अपनी वेबसाइट से हटा लिया, लेकिन तब तक शायद देर हो चुकी थी और यह फीड लोगों की नजरों में आ चुकी थी। जिस पर बढ़ते बवाल को देखते हुए आईएएनएस की ओर से मैनेजिंग एडिटर हरदेव सनोत्रा ने गुरुवार को एक प्रेस रिलीज जारी कर प्रधानमंत्री के लिए इस्तेमाल की गई भाषा के लिए माफी मांगी।


पर ये मुद्दा यही खत्म नहीं हो जाता है। बड़ा सवाल ये है कि आखिर ये गलती क्यों हुई? आईएएनएस को अपनी प्रतिष्ठा के अनुसार इस बड़ी गलती की जांच करनी चाहिए। क्या ऐसा तो नहीं है कि किसी एजेंडे के तहत इस तरह की गलती की गई हो, ऐसा भी सोशल मीडिया पर चर्चा का विषय बना है।  

उन्होंने लिखा, ‘आईएएनएस प्रधानमंत्री के लिए इस्तेमाल की गई असंसदीय भाषा के लिए खेद प्रकट करता है। यहगलती अस्वीकार और नितांत अनुचित है। हमने अपनी पुरानी स्टोरी हटा ली थी और तुरंत नई स्टोरी जारी की थी।’आईएएनएस ने आगे लिखा, ‘जो भी मीडिया की कार्यप्रणाली की गंभीरता से वाकिफ हैं, वे समझते हैं कि कुछ व्यवहारिक गलतियां हो सकती हैं, लेकिन जो हुआ है वह बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है।’ उसकी पूरी प्रेस  रिलीज आप नीचे पढ़ सकते हैं-


वहीं मिल रही जानकारी के मुताबिक, इस बड़े ब्लंडर के लिए आईएएनएस ने अपने स्तर पर कार्रवाई भी की है। आईएएनएस ने ब्यूरो चीफ और पॉलिटकल ब्यूरो चीफ से इस्तीफा ले लिया है।

 

 

Tags headlines


पोल

‘नेटफ्लिक्स’ और ‘हॉटस्टार’ जैसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की मांग को लेकर क्या है आपका मानना?

सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाने चाहिए

इन पर अश्लील कंटेट प्रसारित करने के आरोप सही हैं

आज के दौर में ऐसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करना बहुत मुश्किल है

Copyright © 2018 samachar4media.com