Share this Post:
Font Size   16

एंकर सुशांत सिन्हा बोले-बेरोजगार हो गया, तो भी नहीं करूंगा ये काम...

Published At: Thursday, 10 January, 2019 Last Modified: Thursday, 10 January, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

सोशल मीडिया पर इंडिया न्यूज़ के डिप्टी एडिटर सुशांत सिन्हा और जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला के बीच बेहद रोचक बहस चल रही है। इस बहस की शुरुआत अब्दुल्ला के एक ट्वीट से हुई, हालांकि इस ट्वीट को बहस का रूप देने की पहल सुशांत ने की। दोनों ओर से अब तक कई ट्वीट हो चुके हैं, लेकिन अच्छी बात है कि माहौल में कोई गर्माहट देखने को नहीं मिली है। सुशांत और उमर ने एक-दूसरे के कटाक्ष को बेहद हलके अंदाज़ में लिया है।

दरअसल, इस बहस के पीछे मुख्य वजह है बायोपिक। आजकल पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह की बायोपिक सबसे ज्यादा चर्चा में है। अनुपम खेर इस फिल्म में मनमोहन सिंह का किरदार निभा रहे हैं। इसके साथ ही वर्तमान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जीवन पर बनने वाली फिल्म ‘नरेंद्र मोदी’ भी पोस्टर रिलीज के साथ चर्चा में आ गई है। विवेक ओबराय फिल्म में पीएम मोदी की भूमिका में नज़र आएंगे।

उमर ने इन दोनों बायोपिक को आधार बनाकर एक ट्वीट किया था, जिसका सुशांत ने जवाब दिया और बहस शुरू हो गई। जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री ने अपने ट्वीट में लिखा ‘यह बहुत ही अन्यायपूर्ण है! मनमोहन सिंह को अनुपम खेर जैसा दमदार अभिनेता मिला, जबकि बेचारे मोदीजी को विवेक ओबराय से संतोष करना पड़ा। सलमान खान होता तो मजा आता।’

सुशांत ने इस पर अपनी प्रतिक्रिया व्यक्त करते हुए ट्वीट किया ‘यह बहुत ही अन्यायपूर्ण है! कोई भी अब्दुला (पिता/बेटा) को इस लायक नहीं समझता कि उन पर फिल्म बनाई जाए। राजू हिरानी बनाता तो क्या मजा आता।’

सुशांत के इस ट्वीट के बाद तो दोनों तरफ से शब्दबाण चलने लगे। उमर ने जवाबी हमला बोलते हुए लिखा ‘सच। मेरा दिल लाखों छोटे टुकड़ों में टूटकर बिखर गया। मैं सोच रहा था कि ब्रैड पिट या जॉर्ज क्लूनी मेरा किरदार निभाते। हालांकि, उम्मीद अभी भी जिंदा है।’ जिस पर सुशांत ने कहा ‘आप दिन में सपने देखते हैं। मुझे लगता है कि फवाद खान आपका किरदार निभाने के लिए ज्यादा उपयुक्त रखेंगे।’

सुशांत का ये ट्वीट शायद अब्दुल्ला को चुभने वाला लगा। हालांकि, उन्होंने इस चुभन को अपने शब्दों में पूरी तरह झलकने नहीं दिया। उन्होंने जवाब में लिखा ‘और आपका रंग सामने आ ही गया। मेरी भूमिका कोई मुस्लिम और वो भी पाकिस्तानी निभा सकता है? चलो, मैं इस अप्रत्यक्ष तारीफ को स्वीकार करता हूं। मुझे लगता है कि मिस्टर खान भी लोगों के दिलों की धड़कन हैं।’

पत्रकार जवाब में से सवाल निकालने में माहिर होते हैं और सुशांत ने यह एकबार फिर साबित कर दिया। उन्होंने उमर के शब्दों को हथियार बनाकर उन्हीं पर दागते हुए लिखा ‘मैंने फवाद खान का जिक्र केवल इसलिए किया, क्योंकि वो आपकी तरह सुंदर लग सकते हैं। लेकिन आप उसमें मुस्लिम और पाकिस्तानी एंगल ले आये। हर बात में यह एंगल देखना आजकल राजनेताओं में बहुत आम हो गया है। इसलिए मैं आपकी प्रतिक्रिया से आश्चर्यचकित नहीं हूं।’

शब्दों की यह जंग इतने पर ही नहीं रुकी। उमर और सुशांत दोनों इसे कुछ दूर और ले गए। पूर्व मुख्यमंत्री ने अपना आखिरी दांव खेलते हुए ट्वीट किया ‘मेरी बायोपिक की स्क्रिप्ट लिखने का आनंद उठाओ। मेरे पास आपकी तुलना में करने के लिए कई महत्वपूर्ण काम हैं।’ सुशांत ने उमर के इस ट्वीट का जिस अंदाज़ में जवाब दिया उसे सोशल मीडिया यूजर्स ने काफी सराहा। उन्होंने लिखा ‘नहीं सर, यदि मैं बेरोजगार भी हो गया, तो भी आपकी बायोपिक में दिलचस्पी नहीं दिखाऊंगा  और आप पत्थरबाजों, आतंकियों का समर्थन करने और भारतीय सेना पर निशाना साधने का अपना महत्वपूर्ण काम करते रहिये। आपका दिन शुभ हो।’

सोशल मीडिया पर सुशांत की हाज़िरजवाबी की खूब तारीफ की जा रही है, जबकि उमर अब्दुल्ला को निशाना बनाया जा रहा है। ‘इंडिया न्यूज़’ का हिस्सा बनने से पहले सुशांत एनडीटीवी, न्यूज़24, लाइव इंडिया, जनमत और जैन टीवी में भी सेवाएं दे चुके हैं।

ट्विटर पर दोनों के बीच छिड़ी 'जंग' को आप यहां पढ़ सकते हैं-



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com