Share this Post:
Font Size   16

Honda का ‘HAPPY 2009’ हुआ हिट, काम कर गई कंपनी की स्ट्रैटेजी

Published At: Wednesday, 02 January, 2019 Last Modified: Thursday, 03 January, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

नए साल की पहली सुबह, जिसने भी अख़बार उठाया, कुछ देर के लिए उसकी नज़रें वहीं थम गईं। फिर चेहरे पर एक हल्की सी मुस्कान आई और जुबां से अख़बार की तारीफ में कुछ शब्द निकले। ये शब्द कुछ ऐसे रहे होंगे, ‘अख़बार वाले भी बिना कुछ देखे छाप देते हैं...2019 की जगह 2009 जा रहा है।’

दरअसल, एक जनवरी को अधिकांश अख़बारों के प्रत्येक एडिशन में होंडा कंपनी का विज्ञापन फ्रंट पेज पर था। इस विज्ञापन में बड़े-बड़े शब्दों में लिखा था ‘हैप्पी 2009’। आमतौर पर जब सभी 2019 की शुभकामनाएं दे रहे हैं, 2009 के जिक्र से गफलत पैदा होना लाज़मी था। लिहाजा, कुछ ही देर में सोशल मीडिया पर अख़बार और कंपनी की इस ‘गलती’ को दर्शाते संदेशों की बाढ़ आ गई। यूजर्स ने अपने-अपने अंदाज़ में दोनों का मजाक उड़ाया, लेकिन किसी ने ‘हैप्पी 2009’ के नीचे लिखे शब्दों को पढ़ने और समझने का प्रयास नहीं किया।

दरअसल, ये कोई गलती नहीं थी, न अख़बार और न ही कंपनी की तरफ से कोई चूक हुई। ये विज्ञापन रणनीति का एक हिस्सा था, जो बेहद कारगर साबित हुआ। होंडा विज्ञापन के माध्यम से यह कहना चाहती थी कि जो काम उसने 2009 में ही कर लिया था, उसे इंडस्ट्री अब अपनाएगी। एक तरह से कंपनी ने अपने प्रतियोगियों पर निशाना साधा था। यहां ‘हैप्पी 2009’ का आशय था कि होंडा दुनिया के साथ 2019 में पहुंच गई है, लेकिन उसके कॉम्पटीटर्स के लिए तकनीक के मामले में यह 2009 की शुरुआत है, इसलिए कंपनी उन्हें 2009 की शुभकामनाएं दे रही थी।

यदि विज्ञापन में सीधे तौर पर ‘हैप्पी 2019’ लिखा होता तो न इतनी चर्चा होती और न ही लोग बार-बार इसे देखते। यानी भारी-भरकम बजट वाला विज्ञापन कुछ ही देर में रद्दी बनकर रह जाता। लेकिन अब यह पूरी तरह वायरल हो चुका है, नए साल की पहली सुबह से अब तक लोग इसकी चर्चा कर रहे हैं।

विज्ञापन की दुनिया में रचनात्मकता बहुत मायने रखती है और होंडा के इस विज्ञापन में रचनात्मकता कूट-कूटकर भरी हुई है। कंपनी ने शुभकामना देने के आम रास्ते पर चलने के बजाय एक अलग रास्ता चुना और यह रास्ता 2019 का सबसे धमाकेदार रास्ता साबित हुआ है। जिन लोगों को ‘हैप्पी 2009’ के पीछे की असल वजह समझ आ रही है, वो अब अपनी नादानी पर हंसने और विज्ञापन की तारीफ करते नहीं थक रहे।

 

 



पोल

पत्रकारों की सुरक्षा को लेकर छत्तीसगढ़ सरकार कानून बनाने जा रही है, इस पर क्या है आपका मानना

सिर्फ कानून बनाने से कुछ नहीं होगा, कड़ाई से पालन सुनिश्चित हो

अन्य राज्य सरकारों को भी इस दिशा में कदम उठाने चाहिए

सरकार के इस कदम से पत्रकारों पर हमले की घटनाएं रुकेंगी

Copyright © 2019 samachar4media.com