Share this Post:
Font Size   16

'रिपब्लिक टीवी' के खिलाफ हुई ये शिकायत

Published At: Monday, 22 October, 2018 Last Modified: Wednesday, 24 October, 2018

समाचार4मीडिया ब्यूरो ।।

‘एडवर्टाइजिंग स्‍टैंडर्ड्स काउंसिल ऑफ इंडिया’ (ASCI) ने जून 2018 में 208 विज्ञापनों के खिलाफ मिली शिकायतों की जांच की। हालांकि, शिकायत होते ही 63 एडवर्टाइजर्स ने तुरंत सुधारात्मक कदम उठाते हुए इन्हें सही कर लिया। ऐसे में ‘ASCI’ की ‘कंज्‍यूमर कंप्‍लेंट्स काउंसिल’ (CCC)  ने जांच के बाद 145 विज्ञापनों की शिकायतों में से 89 को सही पाया। ये सभी विज्ञापन तय गाइडलाइंस का उल्लंघन कर रहे थे।

इसी तरह का एक विज्ञापन ‘मलयाला मनोरमा’ से जुड़ा हुआ था। इस विज्ञापन में दिखाया गया है कि अभिनेता दलकीर सलमान ड्राइवर की मुख्य भूमिका में हैं और लोगों को गाड़ी में लिफ्ट देते हैं, लेकिन उन्होंने सीट बेल्ट नहीं पहन रखी है। यह विज्ञापन असुरक्षा को बढ़ावा दे रहा था और इसका यह संदेश जा रहा था कि वाहन चलाते समय सीट बेल्ट पहनना अनिवार्य नहीं है। ऐसे में यह विज्ञापन लोगों को गुमराह कर रहा था।

स्‍वत: संज्ञान लेकर कार्रवाई (
SUO MOTO ACTION)-

इन विज्ञापनों को ‘ASCI’ की प्रिंट और टीवी मीडिया सर्विलॉन्‍स ने ‘नेशनल ऐडवर्टाइजिंग मॉनीटरिंग सर्विसेज प्रोजेक्‍ट’ (NAMS) द्वारा स्‍वत: संज्ञान लेकर जांच के लिए रोका। इसके त‍हत 102 विज्ञापनों में से 49 ऐसे मिले, जो भ्रामक प्रचार कर रहे थे। इनमें 16 एजुकेशन कैटेगरी, 16 हेल्‍थकेयर कैटेगरी, एक पर्सनल केयर कैटेगरी, छह फूड और बेवरेज कैटेगरी और दस अन्य कैटेगरी के विज्ञापन शामिल थे। ये सभी विज्ञापन ASCI की गाइडलाइंस का उल्लंघन कर रहे थे।

इसी तरह 'एआरजी आउटलियर मीडिया प्राइवेट लिमिटेड' (रिपब्लिक टीवी) के ‘India's No. 1 Channel’ होने के दावे को अस्वीकार कर दिया गया। यह दावा एक दिन के डाटा (Period: Week 21-2018) पर आधारित था और इसमें लगातार चार सप्ताह का डाटा शामिल नहीं था। इसके अलावा इस डाटा में सप्ताहांत के दिनों को शामिल नहीं किया गया था, यह 'ब्रॉडकास्‍ट ऑडियंस रिसर्च काउंसिल' (BARC) के अनुसार पूरे हफ्ते का डाटा नहीं था। ऐसे में यह बार्क के नियमों का उल्लंघन कर रहा था। इसके अलावा इसमें किया गया ‘India's No. 1 Channel’ का दावा काफी छोटा था, जिससे यह ASCI के दिशा-निर्देशों का उल्लंघन था।



पोल

‘नेटफ्लिक्स’ और ‘हॉटस्टार’ जैसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करने की मांग को लेकर क्या है आपका मानना?

सरकार को इस दिशा में तुरंत कदम उठाने चाहिए

इन पर अश्लील कंटेट प्रसारित करने के आरोप सही हैं

आज के दौर में ऐसे प्लेटफॉर्म्स को रेगुलेट करना बहुत मुश्किल है

Copyright © 2018 samachar4media.com