Share this Post:
Font Size   16

पत्रकारों के लिए फेलोशिप पाने का मौका, जल्द करें आवेदन

Published At: Tuesday, 12 February, 2019 Last Modified: Tuesday, 12 February, 2019

समाचार4मीडिया ब्यूरो।।

समाज के कमजोर और वंचित समुदाय से जुड़े मुद्दों पर मीडिया लेखन और शोध के लिए विकास संवाद संस्था की ओर से 15वीं मीडिया फेलोशिप के लिए आवेदन आमंत्रित किए गए हैं। इस फेलोशिप के लिए आवेदन की अंतिम तिथि 28 फरवरी रखी गई है।

इस वर्ष चार पत्रकारों को यह फेलोशिप दी जाएगी और इसकी अवधि छह माह होगी। प्रत्येक फेलोशिप के तहत 84000 रुपए तीन समान किस्तों में दिए जाएंगे। इसमें यात्रा व्यय, अन्य सभी खर्च व आयकर नियमों के तहत टीडीएस कटौती शामिल होगी। फेलो को प्रति माह अपनी रिपोर्ट देनी होगी और समीक्षा बैठक में अनिवार्य रूप से शामिल होना होगा।

इस फेलोशिप के लिए चयन के आधार की बात करें तो मध्य प्रदेश में कार्यरत पत्रकार/पत्रकारिता में कम से कम तीन साल का अनुभव, संपादक का सहमति पत्र, प्रदेश के विभिन्न हिस्सों में अध्ययन/भ्रमण में सक्षम होना चाहिए। स्वतंत्र पत्रकार के लिए कम से कम दो प्रतिष्ठित समाचार पत्र/पत्रिका के संपादकों के सहमति/अनुशंसा पत्र जरूरी है। हालांकि, इस फेलोशिप के लिए मध्य प्रदेश से बाहर किसी नेशनल मीडिया से जुड़े पत्रकार भी आवेदन कर सकते हैं, लेकिन उन्हें रिपोर्टिंग और शोध कार्य मध्य प्रदेश में करना होगा।

पिछले 14 साल से दी जा रही इस फेलोशिप का मकसद मुद्दों के प्रति समझ बढ़ाना, जमीनी हकीकत को देखना, शोध आधारित नजरिया व्यापक करना और मुख्यधारा की मीडिया में सामाजिक मुद्दों के दायरे को विस्तार तार देना है। इस फेलोशिप के तहत चार विषय मध्य प्रदेश से गुम होते बच्चे, बच्चों के साथ यौन अपराध, बालिकाओं में कुपोषण और नवजात शिशु एवं बाल स्वास्थ्य शामिल हैं। फेलोशिप के लिए पत्रकारों का चयन एक समिति करेगी। इस समिति में वरिष्ठ पत्रकार गिरीश उपाध्याय, अन्नू आनंद,  श्रावणी सरकार,  अरुण त्रिपाठी,  चंद्रकांत नायडू, रिचर्ड महापात्र शामिल होंगे।

फैलोशिप से संबंधित विस्तृत जानकारी और आवेदन पत्र विकास संवाद, ई-7/226, प्रथम तल, धनवंतरी काम्प्लेक्स, अरेरा कॉलोनी, शाहपुरा, भोपाल ( फोन-0755-4252789) से लिए जा सकते हैं। फेलोशिप के बारे में अधिक जानकारी आप नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक कर ले सकते हैं-

http://www.mediaforrights.org/images/fellowship-brochure-2019.pdf

 



पोल

सोशल मीडिया पर पत्रकारों को निशाना बनाया जा रहा है, क्या है आपका मानना?

पत्रकार भी दूध के धुले नहीं हैं, उनकी भी जवाबदेही होनी चाहिए

ये पेड आईटी सेल द्वारा पत्रकारिता को बदनाम करने की साजिश है

Copyright © 2019 samachar4media.com